गुरुवार, 09 फ़रवरी 2023
खेत-खलिहान

27 सितंबर के भारत बंद को लेकर रेवाड़ी के किसानों ने कसी कमर, अहीरवाल के टोल भी कराएंगे बंद!



"किसान, मजदूर, कर्मचारी, दुकानदार और छोटे व्यापारियों को चौपट होने से बचाने के लिए तीन नये कृषि कानूनों का विरोध जरुरी है. रेवाड़ी के किसान मिलकर 27 सितंबर के भारत बंद को सफल बनाएंगे."

तीन कृषि कानूनों के विरोध में साढ़े नौ महीने से दिल्ली की सीमाओँ पर चल रहे किसान आंदोलन को मजबूत करने के लिए संयुक्त किसान मोर्चा ने 27 सितंबर को भारत बंद का एलान किया है. संयुक्त किसान मोर्चा के 27 सितंबर को भारत बंद के एलान के बाद सभी राज्यों और जिला स्तर पर भारत बंद को सफल बनाने के लिए बैठकें हो रही हैं. 

रेवाड़ी में संयुक्त किसान मोर्चा के अध्यक्ष कॉमरेड राजेंद्र सिंह की अध्यक्षता में तमाम सदस्यों एव संबंधित कमेटियों की बैठक बुलाई गई. बैठक में निर्णय लिया गया कि 27 सितम्बर को तीन नये कृषि कानूनों को रद्द करवाने और एमएसपी की गारंटी का कानून बनाने की मांग को लेकर सयुक्त किसान मोर्चा शहर के लोगों से भारत बंद में साथ देने की अपील करेगा.    

सयुक्त किसान मोर्चा रेवाड़ी, शहर के व्यापारियों, दुकानदारों, सब्जी-मंडी के प्रधानों और ट्रेड यूनियनों समेत तमाम नागरिकों से अपील करेगा कि देश एवं जनहित में 27 सितंबर को बाजार बंद रखें और तमाम कर्मचारी एवं कंपनियों के श्रमिक हड़ताल पर जाए.

वहीं 27 सितंबर को ही गंगायाचा टोल प्लाजा को भी फ्री करवाने का फैसला लिया गया. टोल बंद करवाने को लेकर टोल प्लाजा के मैनेजर को ज्ञापन देकर मांग की गई है कि पूरे प्रदेश के टोल प्लाजा फ्री हैं तो गंगआयाचा टोल प्लाजा को भी फ्री किया जाए.

सयुक्त किसान मोर्चा रेवाड़ी, अध्यक्ष कॉमरेड राजेंद्र सिंह ने कहा, “संयुक्त किसान मोर्चा शांतिपूर्ण एवं लोकतांत्रिक मूल्यों में विश्वास रखता है. मोर्चा जनता से हाथ जोड़ कर अपील करेगा की आने वाली नस्ल और फसल को बचाने के लिए आगे आए. सरकार इन काले कानूनों के तहत कृषि एवं बिजली को कॉरपोरेट घरानों को दे रही है. देश के बड़े-बड़े प्रतिष्ठान समेत रेल पूंजीपतियों को कौड़ियों के दामों में बेचे जा चुके हैं. इससे मजदूर, किसान, श्रमिक, कर्मचारी, दुकानदार और व्यापारी चौपट हो जाएंगे. इसलिए सरकार पर दबाव बनाने के लिए भारत बंद को सफल बनाये.”