बुधवार, 28 सितम्बर 2022
गांव-देहात

हरियाणा में 105 सरकारी स्कूलों पर लटकेगा ताला, सबसे ज्यादा यमुनानगर में 22 स्कूल होंगे बंद!



सरकार का तर्क है कि कम बच्चों वाले स्कूलों को तीन किलोमीटर के दायरे में आने वाले बड़े स्कूल में मिलाकर अध्यापकों की कमी को पूरा किया जा सकेगा. लेकिन सवाल उठ रहे हैं कि बंद होने जा रहे स्कूलों की बिल्डिंग और जमीन का प्रयोग किस काम के लिये किया जाएगा.

हरियाणा में पिछले कईं महीनों से सरकारी स्कूल बंद किये जाने की खबरें चल रही थी लेकिन अब इस खबर की पुष्टि खुद सरकार के शिक्षा विभाग ने कर दी है. शिक्षा विभाग की ओर से जारी किये गए नोटिफिकेशन के अनुसार प्रदेश में कुल 105 स्कूल बंद किये जाएंगे. बंद होने वाले स्कूलों में तीन किलोमीटर के दायरे में आने वाले 2 हाई स्कूल जिनमें छात्रों की संख्या 25 से कम है, 97 ऐसे मिडिल स्कूल, जिनमें छात्रों की संख्या 20 से कम है और 6 ऐसे मिडिल स्कूल शामिल हैं जिनमें 10 से कम बच्चे पढ़ाई कर रहे हैं.

बंद होने वाले स्कूलों में सबसे ज्यादा स्कूल यमुनानगर जिले में बंद होंगे. यमुनानगर में 22 स्कूल बंद किये जायेंगे. वहीं इसके बाद कुरुक्षेत्र में 14 और रेवाड़ी, महेंद्रगढ़ में 10-10 स्कूल बंद होंगे. वहीं झझर में 9, भिवानी में 8, अम्बाला में 6, चरखी दादरी और गुरुग्राम में 5-5 स्कूल बंद होंगे.

इसके साथ ही जींद में 3, कैथल, करनाल, नूह-मेवात और पलवल में 2-2 स्कूल बंद होंगे. पंचकूला, रोहतक, सिरसा, सोनीपत, और हिसार में सबसे कम 1-1 स्कूल बंद होंगे. बन्द होने जा रहे स्कूलों में दो हाई स्कूल हैं जिनमें 25 से कम छात्र हैं. वहीं तीन किलोमीटर के दायरे में आने वाले 97 ऐसे माध्यमिक स्कूल बंद होंगे जिनमें छात्रों की संख्या 20 से कम है.

इसके साथ ही 6 ऐसे मिडिल स्कूल बंद होंगे जिनमें 10 से कम छात्र हैं. सरकार का दावा है कि सरकारी स्कूलों में बच्चों को अच्छी शिक्षा देने की ओर एक बड़ा कदम है. सरकार का तर्क है कि कम बच्चों वाले स्कूलों को तीन किलोमीटर के दायरे में आने वाले बड़े स्कूल में मिलाकर अध्यापकों की कमी को भी पूरा किया जा सकेगा और अच्छी गुणवता की शिक्षा दी जा सकेगी. अब सवाल उठ रहे हैं कि बंद होने जा रहे स्कूलों की बिल्डिंग और जमीन का प्रयोग किस काम के लिये किया जाएगा.