शुक्रवार, 27 जनवरी 2023
टॉप न्यूज़

तिरंगे ने हिंदुओं को बर्बाद किया, भगवा ध्वज लगाएं- यति नरसिंहानंद !



नरसिंहानंद ने कहा, "हर हिंदू के घर पर भगवा रंग का झंडा होना चाहिए. इन धोखेबाजों की बातों में मत फंसना. तिरंगे का ही बहिष्कार करो, क्योंकि इस तिरंगे ने ही तुम्हें बर्बाद कर दिया है. हर हिंदू के घर पर हमेशा भगवा ध्वज होना चाहिए.”

अपने भड़काऊ ब्यानों के चलते सुर्खियों में रहने वाले उग्र हिंदुत्व नेता यति नरसिंहानंद गिरि ने हिंदुओं से अपने घर पर भगवा झंडा लगाने और ‘हर घर तिरंगा’ अभियान का बहिष्कार करने का आग्रह किया है. नरसिंहानंद दो हेट स्पीच के मामलों में आरोपी है. नरसिंहानंद गिरि ने हिंदुओं से “हर घर तिरंगा” अभियान का बहिष्कार करने और तिरंगा नहीं खरीदने के लिए कहा. नरसिंहानंद गिरि ने दावा किया कि इस अभियान के लिए झंडे खरीदने का सबसे बड़ा ठेका एक मुस्लिम को दिया गया है इसलिए हिंदुओं को तिरंगा नहीं खरीदना चाहिए.

नरसिंहानंद ने एक वीडियो में दावा किया, “इस अभियान के लिए सबसे बड़ा ठेका पश्चिम बंगाल की एक कंपनी को दिया गया है, जिसका मालिक सलाउद्दीन है. यह हिंदुओं के खिलाफ एक बड़ी साजिश है. अगर आप (हिंदू) जिंदा रहना चाहते हैं, तो इस अभियान के नाम पर मुसलमानों को अपना पैसा देना बंद करो. नरसिंहानंद ने आगे कहा, “अगर आप तिरंगा फहराना चाहते हैं, तो एक पुराना तिरंगा ढूंढिए लेकिन सलाउद्दीन को पैसे मत दीजिए.”

नरसिंहानंद ने कहा, “हिंदू राजनेता मुसलमानों के आर्थिक बहिष्कार के लिए अभियान चलाते हैं, लेकिन सत्ता में आने के बाद उन्हें सरकारी अनुबंध देते हैं. इन राजनेताओं को सबक सिखाओ, अपने (हिंदुओं) पैसे का इस्तेमाल मुसलमानों को अमीर बनाने के लिए नहीं करने दें. इन लोगों के जाल में मत पड़ो.

नरसिंहानंद ने कहा, “हर हिंदू के घर पर भगवा रंग का झंडा होना चाहिए. इन धोखेबाजों की बातों में मत फंसना. तिरंगे का ही बहिष्कार करो, क्योंकि इस तिरंगे ने तुम्हें ही बर्बाद कर दिया है. हर हिंदू के घर पर हमेशा भगवा ध्वज होना चाहिए.”

जनवरी में नरसिंहानंद को दो अलग-अलग मामलों में गिरफ्तार किया गया था. एक महिलाओं के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणी पर और दूसरा हरिद्वार के धर्म संसद में मुसलमानों के खिलाफ नफरत भरे भाषण को लेकर. नरसिंहानंद दोनों मामलों में जमानत पर बाहर है. वहीं भारत को इस्लामिक देश बनने से रोकने के लिए नरसिंहानंद ने हिंदुओं से अधिक बच्चे पैदा करने के लिए कहा था.