सोमवार, 03 अक्टूबर 2022
गांव-देहात

कुपोषण की दोहरी मार झेल रहे बुंदेलखंड के बच्चे चुनावी मुद्दा क्यों नहीं बन पाए?



उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव से पहले उत्तर प्रदेश के बुंदेलखंड क्षेत्र को लगभग रु. 6,300 करोड़ की परियोजनाओं की घोषणाएं की गईं, जिनमें झांसी में टैंक रोधी मिसाइलों के प्रणोदन प्रणाली के लिए 400 करोड़ रुपये का संयंत्र भी शामिल है. 18 नवंबर, 2021 को झांसी नोड (उत्तर प्रदेश रक्षा औद्योगिक गलियारे से संबंधित) में पहली परियोजना के लिए नींव रखी गई. उत्तर प्रदेश और तमिलनाडु के दो रक्षा औद्योगिक गलियारों में साल 2024-25 तक कुल 20,000 करोड़ रुपये के निवेश आने की उम्मीद है. महोबा जिले में धसान नदी पर लगभग 2,600 करोड़ रुपये की लागत से तैयार होने वाली अर्जुन सहायक परियोजना की मदद से बांदा, हमीरपुर और महोबा जिले के 168 गांवों में 1.5 लाख किसानों को सिंचाई सुविधा प्रदान करने का अनुमान है. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व वाली उत्तर प्रदेश राज्य सरकार ने हाल ही में दावा किया कि इटावा, औरैया, जालौन, हमीरपुर, बांदा , महोबा और चित्रकूट को जोड़ने वाले 296 किलोमीटर लंबे बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे (जिसकी नींव 29 फरवरी, 2020 को रखी गई थी) पर लगभग 76 प्रतिशत काम पूरा हो चुका है. 11 दिसंबर, 2021 को उत्तर प्रदेश के बलरामपुर में सरयू नहर परियोजना का उद्घाटन करते हुए प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि केन-बेतवा नदी को जोड़ने की परियोजना से बुंदेलखंड का जल संकट समाप्त हो जाएगा.

मध्य भारत के बुंदेलखंड क्षेत्र ने अपने सामाजिक-आर्थिक पिछड़ेपन के लिए सामाजिक वैज्ञानिकों, शोधकर्ताओं और नागरिक समाज संगठनों का ध्यान आकर्षित किया, लेकिन अब उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनावों के कारण इस इलाके ने राजनीतिक कारणों से ध्यान आकर्षित किया है.

मध्य भारत का बुंदेलखंड क्षेत्र उत्तर प्रदेश के 7 जिलों और मध्य प्रदेश के छह जिलों में फैला हुआ है. चित्रकूट, बांदा, झांसी, जालौन, हमीरपुर, महोबा और ललितपुर जिले, जो बुंदेलखंड क्षेत्र का हिस्सा हैं, उत्तर प्रदेश में स्थित हैं. बुंदेलखंड क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले मध्य प्रदेश के जिले छतरपुर, टीकमगढ़, दमोह, सागर, दतिया और पन्ना हैं. इस इलाके में 95 प्रतिशत से अधिक वर्षा जून और सितंबर के बीच होती है (अधिकतम वर्षा आमतौर पर जुलाई-अगस्त में होती है), नवंबर-मई के दौरान होने वाली वर्षा की थोड़ी मात्रा क्षेत्र में खेती के लिए काफी उपयोगी है. भूविज्ञान और स्थलाकृति और प्राप्त वर्षा के पैटर्न के कारण, बुंदेलखंड क्षेत्र सूखा और बाढ़ दोनों से प्रभावित है.

बुंदेलखंड में रहने वाले अधिकांश ग्रामीण लोगों का मुख्य आधार कृषि है. खेती के अलावा, वे पशुपालन और डेयरी, मुर्गी पालन, मत्स्य पालन, मधुमक्खी पालन और रेशम उत्पादन जैसी माध्यमिक गतिविधियों पर निर्भर हैं. लगातार सूखे (हाल के वर्षों में जलवायु परिवर्तन के कारण) और अनिश्चित मानसून ने इस क्षेत्र में रहने वाले लोगों की आजीविका को प्रभावित किया है. पानी की कमी (सिंचाई की सुनिश्चित सुविधाओं की कमी के कारण) के साथ-साथ कम कृषि उत्पादकता ने न केवल लोगों की क्रय शक्ति को प्रभावित किया है, बल्कि बच्चों और वयस्कों दोनों की खाद्य और पोषण सुरक्षा को भी प्रभावित किया है. आजीविका सुरक्षा के लिए बुंदेलखंड क्षेत्र से भारत के अन्य जगहों पर पलायन काफी आम बात है.

उपरोक्त पृष्ठभूमि के उल्ट, बुंदेलखंड क्षेत्र के विभिन्न जिलों में हमने बाल पोषण की स्थिति का आकलन करने का (राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण-एनएफएचएस डेटा का उपयोग करके) प्रयास किया गया है. इसके साथ-साथ उत्तर प्रदेश और मध्यप्रदेश में समग्र बाल पोषण की स्थिति का आकलन करने का प्रयास किया गया है.

वर्तमान विश्लेषण में, 3 संकेतकों पर विचार किया गया है – 5 वर्ष से कम उम्र के बच्चों का अनुपात जो स्टंटिग से पीड़ित हैं (उम्र के अनुसार कम लंबाई); 5 वर्ष से कम उम्र के बच्चे जो वेस्टिंग से ग्रस्त है (लंबाई के हिसाब से कम वजन); और 5 वर्ष से कम उम्र के बच्चों का अनुपात जो अंडरवेट (उम्र के अनुसार कम वजन) हैं. यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि संयुक्त राष्ट्र बाल कोष (यूनिसेफ) के अनुसार, कम पोषण में किसी की उम्र के लिए कम वजन, उम्र के हिसाब से कम लंबाई (स्टंटेड), खतरनाक रूप से पतले (वेस्टिड), और विटामिन और खनिजों में कमी (सूक्ष्म पोषक तत्व कुपोषण) शामिल है.

पांच साल से कम उम्र के बच्चों में स्टंटिंग की व्यापकता

एनएफएचएस के हाल ही में जारी आंकड़ों से पता चलता है कि पूरे देश में, स्टंटिंग से ग्रसित 5 साल से कम उम्र के बच्चों का प्रतिशत 2015-16 और 2019-21 के बीच 38.4 प्रतिशत से घटकर 35.5 प्रतिशत हो गया है, यानी -2.9 प्रतिशत की कमी. इसी दौरान उत्तर प्रदेश में (46.3 प्रतिशत से 39.7 प्रतिशत अर्थात -6.6 प्रतिशत अंक) भी लगभग इतनी ही गिरावट आई है, जबकि मध्य प्रदेश में, स्टंटिंग से ग्रसित 5 वर्ष से कम उम्र के बच्चों का प्रतिशत 2015-16 और 2020-21 के बीच 42.0 प्रतिशत से घटकर 35.7 प्रतिशत (यानी -6.3 प्रतिशत अंक) हो गया है. कृपया चार्ट-1 देखें.

दमोह (-2.9 प्रतिशत अंक), दतिया (-12.1 प्रतिशत अंक), और टीकमगढ़ (-22.2 प्रतिशत अंक) जिलों में स्टंटिंग से ग्रसित 5 वर्ष से कम उम्र के बच्चों का प्रतिशत एनएफएचएस-4 और एनएफएचएस-5 के बीच कम हुआ है, जबकि छतरपुर (+2.4 प्रतिशत अंक), पन्ना (+2.8 प्रतिशत अंक), और सागर (+1.7 प्रतिशत अंक) जिलों में स्टंटिंग से ग्रसित 5 वर्ष से कम उम्र के बच्चों का प्रतिशत इसी दौरान बढ़ा है.

चित्रकूट (-3.4 प्रतिशत अंक), जालौन (-0.5 प्रतिशत अंक), और महोबा (-2.3 प्रतिशत अंक) जिलों में स्टंटिंग से ग्रसित 5 वर्ष से कम उम्र के बच्चों का प्रतिशत एनएफएचएस -4 और एनएफएचएस -5 के बीच कम हो गया है, जबकि बांदा (+4.3 प्रतिशत अंक), हमीरपुर (+9.5 प्रतिशत अंक), झांसी (+4.8 प्रतिशत अंक), और ललितपुर (+5.9 प्रतिशत अंक) जिलों में स्टंटिंग से ग्रसित 5 साल से कम उम्र के बच्चों का प्रतिशत बढ़ा है.

तो, साल  2015-16 और 2020-21 के बीच बुंदेलखंड में आने वाले 13 जिलों में से सात जिलों में, स्टंटिंग से ग्रसित 5 साल से कम उम्र के बच्चों का अनुपात बढ़ा है.

2020-21 में पांच साल से कम उम्र के बच्चों में स्टंटिंग का प्रचलन उत्तर प्रदेश (39.7 प्रतिशत) के राज्यस्तरीय औसत की तुलना में बांदा (51.0 प्रतिशत), चित्रकूट (47.5 प्रतिशत), हमीरपुर (48.0 प्रतिशत), जालौन (45.1 प्रतिशत), झांसी (40.9 प्रतिशत), ललितपुर (46.6 प्रतिशत) और महोबा (42.3 प्रतिशत) में अधिक है. 2020-21 में पांच साल से कम उम्र के बच्चों में स्टंटिंग का प्रचलन मध्य प्रदेश (35.7 प्रतिशत) के राज्यस्तरीय औसत की तुलना में छतरपुर (45.1 प्रतिशत), दमोह (40.3 प्रतिशत), दतिया (36.8 प्रतिशत), पन्ना (45.1 प्रतिशत) और सागर (42.7 प्रतिशत) जिलों में अधिक है.

नोट: कृपया उपरोक्त चार्ट के डेटा को स्प्रैडशीट प्रारूप में एक्सेस करने के लिए यहां क्लिक करें.

—–

संयुक्त राष्ट्र बाल कोष (यूनिसेफ) के अनुसार, स्टंटिंग, या उम्र के हिसाब से कम लंबाई, बच्चों को अपरिवर्तनीय शारीरिक और मानसिक क्षति के लिए जिम्मेदार है. एक बच्चा जो स्टंटिंग से ग्रसित है वह अपनी उम्र के हिसाब से लंबाई में बहुत छोटा है, पूरी तरह से विकसित नहीं होता है और बौनापन प्रारंभिक जीवन में वृद्धि और विकास के सबसे महत्वपूर्ण समय के दौरान पुराने कुपोषण को दर्शाता है.

स्टंटिंग पूर्व-गर्भाधान से शुरू होती है जब एक किशोर लड़की जो बाद में मां बन जाती है, कुपोषित और एनीमिक होती है और स्थिति तब और अधिक खराब हो जाती है जब शिशुओं का आहार खराब होता है, और जब स्वच्छता अपर्याप्त होती है. यह दो साल की उम्र तक अपरिवर्तनीय है. स्टंटिंग से स्कूल की उपस्थिति और प्रदर्शन पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है. स्टंटिंग के तात्कालिक और अंतर्निहित कारकों में सबसे गरीब परिवारों में शिशु और बच्चों की देखभाल, स्वच्छता और सीमित खाद्य सुरक्षा शामिल हैं. यह प्रजनन और मातृ पोषण से निकटता से जुड़ा हुआ है और अक्सर गर्भ में मां की सामाजिक स्थिति और शिक्षा के स्तर से निर्धारित होता है. भोजन सेवन और गर्भावस्था और स्तनपान के दौरान एक किशोरी और एक महिला की देखभाल की गुणवत्ता से संबंधित पारंपरिक मान्यताएं भी कारक हैं, जबकि पिछले 10 वर्षों में विशेष स्तनपान प्रथाओं में सुधार हुआ है, लेकिन पूरक आहार प्रथाएं खराब हो गई हैं. यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि गरीबी स्टंटिंग का एक स्पष्ट कारण नहीं है क्योंकि सबसे अमीर घरों में भी स्टंटिंग से ग्रसित बच्चे हैं.

पांच साल से कम उम्र के बच्चों में वेस्टिंग की व्यापकता

भारत में, वेस्टिंग से ग्रसित 5 साल से कम उम्र के बच्चों का प्रतिशत 2015-16 और 2019-21 के बीच 21.0 प्रतिशत से घटकर 19.3 प्रतिशत यानि -1.7 प्रतिशत अंक हो गया है. मध्य प्रदेश में, वेस्टिंग से ग्रसित 5 साल से कम उम्र के बच्चों का प्रतिशत 2015-16 और 2020-21 (यानी -6.8 प्रतिशत अंक) के बीच 25.8 प्रतिशत से घटकर 19.0 प्रतिशत हो गया है, जबकि इसी दौरान उत्तर प्रदेश में यह पहले से मामूली कम (17.9 प्रतिशत से 17.3 प्रतिशत अर्थात -0.6 प्रतिशत अंक) कम हुआ है. कृपया चार्ट-2 देखें.

एनएफएचएस-4 और एनएफएचएस-5 के बीच छतरपुर (-1.4 प्रतिशत अंक), दमोह (-4.8 प्रतिशत अंक), दतिया (-9.8 प्रतिशत अंक), पन्ना (-0.8 प्रतिशत अंक) और सागर (-1.7 प्रतिशत अंक) जिलों में वेस्टिंग से ग्रसित 5 वर्ष से कम उम्र के बच्चों का प्रतिशत कम हुआ है, जबकि इसी दौरान टीकमगढ़ जिले (+0.5 प्रतिशत अंक) में वेस्टिंग से ग्रसित 5 साल से कम उम्र के बच्चों का प्रतिशत बढ़ गया है,

एनएफएचएस -4 और एनएफएचएस -5 के बीच चित्रकूट (-8.5 प्रतिशत अंक), हमीरपुर (-11.7 प्रतिशत अंक), जालौन (-12.7 प्रतिशत अंक), झांसी (-2.0 प्रतिशत अंक), और ललितपुर (-20.3 प्रतिशत अंक) जिलों में वेस्टिंग से ग्रसित 5 वर्ष से कम उम्र के बच्चों का प्रतिशत कम हुआ है, लेकिन बांदा (+7.7 प्रतिशत अंक) और महोबा (+1.1 प्रतिशत अंक) में वेस्टिंग से ग्रसित 5 साल से कम उम्र के बच्चों के प्रतिशत में वृद्धि हुई है.

अत: वर्ष 2015-16 से 2020-21 के बीच बुंदेलखंड क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले 13 जिलों में से तीन जिलों में वेस्टिंग से ग्रसित 5 वर्ष से कम आयु के बच्चों का अनुपात बढ़ा है.

2020-21 में पांच साल से कम उम्र के बच्चों में वेस्टिंग का प्रचलन मध्य प्रदेश (19.0 फीसदी) के राज्यस्तरीय की तुलना में पन्ना (23.2 फीसदी) और टीकमगढ़ (19.7 फीसदी) में अधिक है. वहीं 2020-21 में पांच साल से कम उम्र के बच्चों में वेस्टिंग का प्रचलन उत्तर प्रदेश (17.3 प्रतिशत) के राज्यस्तरीय औसत की तुलना में बांदा (25.7 फीसदी), चित्रकूट (24.8 फीसदी), हमीरपुर (20.6 फीसदी), जालौन (19.5 फीसदी), झांसी (25.2 फीसदी), ललितपुर (18.7 फीसदी), और महोबा (25.0 प्रतिशत) में अधिक है.

नोट: कृपया उपरोक्त चार्ट के डेटा को स्प्रैडशीट प्रारूप में एक्सेस करने के लिए यहां क्लिक करें

यूनिसेफ के अनुसार, वेस्टिंग उस स्थिति को संदर्भित करता है जब कोई बच्चा अपनी लंबाई के हिसाब से बहुत पतला होता है. एक बच्चा जो मध्यम या गंभीर रूप से वेस्टिंग से ग्रसत होता है, उसे मृत्यु का खतरा बढ़ जाता है, लेकिन इलाज संभव है. खराब पोषक तत्वों के सेवन और/या बीमारी के कारण वेस्टिंग को एक मृत्यु के खतरे के तौर पर देखा जाता है. थोड़े समय में पोषण की स्थिति में तेजी से गिरावट की विशेषता, वेस्टिंग से पीड़ित बच्चों में रोग प्रतिरोधक क्षमता कम हो जाती है, अधिक आवृत्ति और सामान्य संक्रमण की गंभीरता के कारण उनकी मृत्यु का खतरा बढ़ जाता है, खासकर जब यह गंभीर स्थिति में होता है. वेस्टिंग को कुपोषण का सबसे तात्कालिक, दृश्यमान और जानलेवा रूप माना जाता है. यह सबसे कमजोर बच्चों में कुपोषण को रोकने में विफलता का परिणाम है. वेस्टिंग से ग्रसत बच्चे बहुत पतले होते हैं और उनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होती है, जिससे वे विकास में देरी, बीमारी और मृत्यु की चपेट में आ जाते हैं. वेस्टिंग से प्रभावित कुछ बच्चे भी पोषण संबंधी शोफ से पीड़ित होते हैं, जिसमें सूजन वाले चेहरे, पैरों और अंगों की विशेषता होती है. वेस्टिंग और तीव्र कुपोषण के अन्य रूप मातृ कुपोषण, जन्म के समय कम वजन, खराब भोजन और देखभाल प्रथाओं, और खाद्य असुरक्षा, सुरक्षित पेयजल तक सीमित पहुंच और गरीबी से बढ़े हुए संक्रमण के कारण होते हैं. प्रमाण बताते हैं कि वेस्टिंग जीवन में बहुत जल्दी हो जाती है और 2 साल से कम उम्र के बच्चों को असमान रूप से प्रभावित करती है. जलवायु परिवर्तन से प्रेरित सूखे और बाढ़ सहित संघर्ष, महामारी और खाद्य असुरक्षा के परिणामस्वरूप वेस्टिंग से पीड़ित बच्चों की संख्या नाटकीय रूप से बढ़ सकती है. फिर भी, वेस्टिंग केवल संकट की विशेषता नहीं है. वास्तव में, वेस्टिंग से ग्रसत सभी बच्चों में से दो तिहाई ऐसे स्थान पर रहते हैं जो आपात स्थिति का सामना नहीं कर रहे हैं. जबकि हाल के वर्षों में वेस्टिंग से ग्रसत और जीवन के लिए खतरनाक कुपोषण के अन्य रूपों के लिए इलाज किए जा रहे बच्चों की संख्या में वृद्धि हुई है, गंभीर रूप से वेस्टिंग से ग्रसत तीन बच्चों में से केवल एक की समय पर उपचार और देखभाल हो पाती है जिससे उन्हें जीवित रहने और विकसित होने में मदद मिलती है.

5 वर्ष से कम वजन वाले बच्चों का प्रतिशत

2015-16 और 2019-21 के बीच पूरे देश में, 5 साल से कम वजन वाले बच्चों का प्रतिशत 35.8 प्रतिशत से घटकर 32.1 प्रतिशत हो गया है, यानी -3.7 प्रतिशत अंक. हालांकि मध्य प्रदेश के लिए 5 साल से कम वजन वाले बच्चों का प्रतिशत 2015-16 और 2020-21 के बीच 42.8 प्रतिशत से गिरकर 33.0 प्रतिशत हो गया है (अर्थात, -9.8 प्रतिशत अंक), इसी दौरान उत्तर प्रदेश के लिए यह 39.5 प्रतिशत से घटकर 32.1 प्रतिशत (यानी -7.4 प्रतिशत अंक) हो गया है. कृपया चार्ट-3 पर एक नजर डालें.

एनएफएचएस-4 और एनएफएचएस-5 के बीच छतरपुर (-6.7 प्रतिशत अंक), दमोह (-5.7 प्रतिशत अंक), दतिया (-17.5 प्रतिशत अंक), पन्ना (-1.6 प्रतिशत अंक), और टीकमगढ़ (-8.4 प्रतिशत अंक) जिलों में 5 वर्ष से कम आयु के कम वजन वाले बच्चों का प्रतिशत घटा है, जबकि सागर जिले में (+5.3 प्रतिशत अंक) 5 वर्ष से कम वजन वाले बच्चों का प्रतिशत इसी दौरान बढ़ा है.

हालांकि 2015-16 और 2020-21 के बीच चित्रकूट (-10.7 प्रतिशत अंक), हमीरपुर (-3.5 प्रतिशत अंक), जालौन (-13.1 प्रतिशत अंक), झांसी (-0.2 प्रतिशत अंक), ललितपुर (-14.0 प्रतिशत अंक), और महोबा (-14.3 प्रतिशत अंक) जिलों में 5 वर्ष से कम वजन वाले बच्चों का प्रतिशत गिर गया है, लेकिन बांदा जिले में (+8.3 प्रतिशत अंक) 5 वर्ष से कम वजन वाले बच्चों का प्रतिशत इसी दौरान बढ़ा है. बुंदेलखंड क्षेत्र में बांदा एकमात्र जिला है, जिसने कुपोषण के तीनों संकेतकों में वृद्धि का अनुभव किया है, यानी 5 साल से कम उम्र के बच्चों में स्टंटिंग, वेस्टिंग और कम वजन का प्रसार.

2015-16 से 2020-21 के बीच बुंदेलखंड के 13 में से सिर्फ दो जिलों में 5 साल से कम उम्र के कम वजन वाले बच्चों का अनुपात बढ़ा है.

2020-21 में पांच साल से कम उम्र के बच्चों में कम वजन का प्रचलन मध्य प्रदेश (33.0 फीसदी) के राज्य स्तरीय औसत की तुलना में छतरपुर (34.6 फीसदी), पन्ना (39.2 फीसदी), सागर (35.8 फीसदी), और टीकमगढ़ (34.9 फीसदी) में अधिक है. 2020-21 में पांच साल से कम उम्र के बच्चों में कम वजन का प्रचलन उत्तर प्रदेश (32.1 प्रतिशत) के राज्यस्तरीय औसत से बांदा (49.8 फीसदी), चित्रकूट (41.8 फीसदी), हमीरपुर (36.3 फीसदी), जालौन (36.1 फीसदी), झांसी (39.3 फीसदी), ललितपुर (34.8 फीसदी) और महोबा (33.4 प्रतिशत) में अधिक है.

नोट: कृपया उपरोक्त चार्ट के डेटा को स्प्रैडशीट प्रारूप में एक्सेस करने के लिए यहां क्लिक करें

कम वजन वाले बच्चों को उम्र के हिसाब से औसत से कम वजन के रूप में जाना जाता है. एक बच्चा जो कम वजन का है, वह स्टंटिंग, वेस्टिंग या दोनों से ग्रसित हो सकता है. हल्के से कम वजन वाले बच्चों में मृत्यु का जोखिम बढ़ जाता है, और गंभीर रूप से कम वजन वाले बच्चों में जोखिम और भी अधिक होता है.

बाल मृत्यु दर संकेतकों पर डेटा

हालांकि, राष्ट्रीय और राज्य स्तर (मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश) में तीन बाल मृत्यु दर संकेतक यानी नवजात मृत्यु दर (एनएनएमआर), शिशु मृत्यु दर (आईएमआर) और पांच साल से कम उम्र की मृत्यु दर (यू5एमआर) के लिए डेटा उपलब्ध है, लेकिन यह जिलेवार उपलब्ध नहीं है जो बुंदेलखंड क्षेत्र का हिस्सा हैं. इसके परिणामस्वरूप बुंदेलखंड क्षेत्र के 13 जिलों में बाल मृत्यु दर की प्रवृत्तियों को हम नहीं देख सके.

हमने बुंदेलखंड क्षेत्र में कुपोषण की समस्या को 3 संकेतकों के हिसाब से देखा – 5 साल से कम उम्र के बच्चों का अनुपात जो स्टंटिंग से ग्रस्त हैं (उम्र के हिसाब से कम लंबाई); 5 वर्ष से कम उम्र के बच्चों का अनुपात जो वेस्टिंग के शिकार हैं (लंबाई के हिसाब से कम वजन); और 5 वर्ष से कम उम्र के बच्चों का अनुपात जो अंडरवेट (आयु के हिसाब से कम वजन) हैं.

हालांकि, राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण (एनएफएचएस) के आंकड़ों से यह भी संकेत मिलता है कि इस क्षेत्र में 5 साल से कम उम्र के बच्चों में अधिक वजन के साथ-साथ बच्चों में गंभीर कुपोषण और एनीमिया जैसे गंभीर कुपोषण मौजूद हैं. विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के अनुसार, कुपोषण की दो चरम सीमाएँ स्वास्थ्य के लिए गंभीर ख़तरा पैदा कर रही हैं. ये हैं – कम पोषण और मोटापा, जिससे व्यक्ति विशेष, परिवारों और आबादी में जीवन भर अधिक वजन और मोटापे, या आहार से संबंधित गैर-संचारी रोगों के सह-अस्तित का खतरा है.

कुपोषण के मुद्दे से बुंदेलखंड लगातार झूझ रहा है, उसको समझने के लिए, हमने तीन अलग-अलग संकेतकों के रुझानों को लिया है – 5 साल से कम उम्र के बच्चों का अनुपात जो गंभीर रूप से वेस्टिंग (लंबाई के हिसाब से कम वजन); 5 वर्ष से कम उम्र के बच्चों का अनुपात जो अधिक मोटे हैं (लंबाई के हिसाब से अधिक वजन); और 6-59 महीने की आयु के बच्चों का अनुपात जो एनीमिक हैं (<11.0 g/dl).

गंभीर रूप से वेस्टिंग का शिकार हुए पांच साल से कम उम्र के बच्चों का अनुपात

एनएफएचएस के हाल ही में जारी आंकड़ों से पता चलता है कि पूरे देश के लिए, साल 2015-16 और 2019-21 के बीच गंभीर रूप से वेस्टिंग का शिकार 5 साल से कम उम्र के बच्चों का प्रतिशत 7.5 प्रतिशत से बढ़कर 7.7 प्रतिशत हो गया है, यानी +0.2 प्रतिशत अंक की मामूली बढ़ोतरी. जबकि मध्य प्रदेश में 5 साल से कम उम्र के गंभीर रूप से वेस्टिंग का शिकार होने वाले बच्चों का प्रतिशत 2015-16 और 2020-21 के बीच 9.2 प्रतिशत से घटकर 6.5 प्रतिशत हो गया है (यानी -2.7 प्रतिशत अंक) की कमी. इसी दौरान उत्तर प्रदेश में यह 6.0 प्रतिशत से बढ़कर 7.3 प्रतिशत हो गया है (अर्थात, +1.3 प्रतिशत अंक की बढ़ोतरी). कृपया चार्ट-1 देखें.

एनएफएचएस-4 और एनएफएचएस-5 के बीच छतरपुर (-1.4 प्रतिशत अंक), दमोह (-2.8 प्रतिशत अंक), दतिया (-1.4 प्रतिशत अंक), पन्ना (-2.1 प्रतिशत अंक), सागर (-0.5 प्रतिशत अंक), और टीकमगढ़ (-0.3 प्रतिशत अंक) जिलों में 5 साल से कम उम्र के गंभीर रूप से वेस्टिंग से ग्रस्त बच्चों के प्रतिशत में कमी आई है.

चित्रकूट (-2.7 प्रतिशत अंक), हमीरपुर (-3.9 प्रतिशत अंक), जालौन (-5.8 प्रतिशत अंक), झांसी (-0.6 प्रतिशत अंक), और ललितपुर (-9.4 प्रतिशत अंक) जिलों में गंभीर रूप से वेस्टिंग से ग्रसित 5 वर्ष से कम उम्र के बच्चों का प्रतिशत एनएफएचएस -4 और एनएफएचएस -5 के बीच कम हो गया हैं, जबकि इसी दौरान बांदा (+6.3 प्रतिशत अंक) और महोबा (+5.3 प्रतिशत अंक) जिलों में गंभीर रूप से वेस्टिंग से ग्रसित 5 साल से कम उम्र के बच्चों के प्रतिशत में बढ़ोतरी हुई है.

2015-16 और 2020-21 के बीच बुंदेलखंड के 13 जिलों में से सिर्फ दो में, गंभीर रूप से वेस्टिंग से ग्रसित 5 साल से कम उम्र के बच्चों का अनुपात बढ़ गया है.

2020-21 में मध्य प्रदेश के राज्यस्तरीय आंकड़े (6.5 फीसदी) की तुलना में पांच साल से कम उम्र के बच्चों में गंभीर वेस्टिंग की व्यापकता दतिया (6.8 फीसदी), पन्ना (7.9 फीसदी) और टीकमगढ़ (7.3 फीसदी) में अधिक है. 2020-21 में उत्तर प्रदेश के राज्यस्तरीय आंकड़े (7.3 प्रतिशत) की तुलना में पांच साल से कम उम्र के बच्चों में गंभीर वेस्टिंग की व्यापकता बांदा (13.0 प्रतिशत), चित्रकूट (12.0 प्रतिशत), हमीरपुर (10.7 प्रतिशत), जालौन (8.5 प्रतिशत), झांसी (10.4 प्रतिशत), ललितपुर (7.5 प्रतिशत) और महोबा (11.7 प्रतिशत) में अधिक है.

नोट: कृपया उपरोक्त चार्ट के डेटा को स्प्रैडशीट प्रारूप में एक्सेस करने के लिए यहां क्लिक करें

—–

गंभीर वेस्टिंग की विशेषता है शरीर में वसा और मांसपेशियों के ऊतकों का भारी नुकसान. गंभीर रूप से वेस्टिंग से ग्रस्त होने वाले बच्चे लगभग बुढ़ों जैसे दिखने लगते हैं और उनके शरीर बेहद पतले और कंकाल जैसे हो जाते हैं. स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के एक दस्तावेज में कहा गया है कि अगर कम अवधि के लिए आहार में कमी होती है, तो शरीर कुछ हद तक घाटे की भरपाई के लिए अपने चयापचय (मेटाबोलिज्म) को अपना लेता है. यदि भोजन की कमी लंबे समय तक बनी रहती है तो वसा का उपयोग ऊर्जा और शरीर के मेटाबोलिजम के लिए किया जाता है और मांसपेशियां खत्म हो जाती हैं. गंभीर रूप से वेस्टिंग से ग्रस्त बच्चों की वसा और मांसपेशियां खत्म हो जाती हैं और सिर्फ “त्वचा और हड्डियां” रह जाती हैं और शरीर कंकाल की तरह दिखाई देता है. इस स्थिति के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला एक और शब्द “मरास्मस” है. कोई भी बच्चा जिसमें निम्नलिखित विशेषताएं हैं, उन्हें गंभीर तीव्र कुपोषण (एसएएम) के रूप में माना जाता है:

* लंबाई के हिसाब से कम वजन -3 एसडी से कम और/या

* दृश्यमान गंभीर वेस्टिंग और/या

* मध्य भुजा परिधि (एमयूएसी) <11.5 सेमी और/या

* दोनों पैरों की एडिमा; हालांकि, एडिमा के अन्य कारण के लिहाज से नेफ्रोटिक सिंड्रोम को बाहर रखा जाना चाहिए.

6-59 महीने की उम्र के बच्चों में एनीमिया की व्यापकता

पूरे देश में, साल 2015-16 और 2019-21 के दौरान एनीमिया से पीड़ित 6-59 महीने की आयु के बच्चों का प्रतिशत 58.6 प्रतिशत से बढ़कर 67.1 प्रतिशत हो गया है, यानी +8.5 प्रतिशत अंक की बढ़ोतरी. जबकि मध्य प्रदेश में, 2015-16 और 2020-21 के बीच एनीमिया से पीड़ित 6-59 महीने के बच्चों का प्रतिशत 68.9 प्रतिशत से बढ़कर 72.7 प्रतिशत (यानी +3.8 प्रतिशत अंक) हो गया है. इसी दौरान उत्तर प्रदेश में यह 63.2 प्रतिशत से बढ़कर 66.4 प्रतिशत हो गया है, यानी (यानी +3.2 प्रतिशत अंक) की बढ़ोतरी. कृपया चार्ट-2 देखें.

एनएफएचएस-4 और एनएफएचएस-5 के बीच छतरपुर (+21.0 प्रतिशत अंक), दमोह (+0.6 प्रतिशत अंक), पन्ना (+6.3 प्रतिशत अंक), सागर (+15.9 प्रतिशत अंक), और टीकमगढ़ (+0.4 प्रतिशत अंक) जिलों में एनिमिया से ग्रसित 6-59 आयु वर्ग के बच्चों के प्रतिशत में बढ़ोतरी हुई है. हालांकि,  2015-16 और 2020-21 के बीच दतिया जिले (-0.4 प्रतिशत अंक) में, एनीमिया से ग्रसित 6-59 महीने की आयु के बच्चों के प्रतिशत में गिरावट आई है.

एनएफएचएस -4 और एनएफएचएस -5 के बीच चित्रकूट (-17.2 प्रतिशत अंक), जालौन (-29.6 प्रतिशत अंक), झांसी (-7.5 प्रतिशत अंक), ललितपुर (-19.8 प्रतिशत अंक), और महोबा (-7.5 प्रतिशत अंक) जिलों में एनीमिया से पीड़ित 6-59 महीने आयु वर्ग के बच्चों के प्रतिशत में कमी आई है, जबकि इसी दौरान बांदा (+19.5 प्रतिशत अंक) और हमीरपुर (+13.0 प्रतिशत अंक) जिलों में एनीमिया से पीड़ित 6-59 महीने की आयु के बच्चों के प्रतिशत में बढ़ोतरी हुई है.

आंकड़ों के मुताबिक, 2015-16 से 2020-21 के बीच बुंदेलखंड में आने वाले 13 में से सात जिलों में एनीमिया से पीड़ित 6-59 महीने की उम्र के बच्चों का प्रतिशत बढ़ा है.

2020-21 में मध्य प्रदेश (72.7 प्रतिशत) के राज्यस्तरीय औसत की तुलना में छतरपुर (87.2 प्रतिशत), दमोह (76.3 प्रतिशत), दतिया (72.8 प्रतिशत), पन्ना (74.5 प्रतिशत) और सागर (83.3 प्रतिशत) में 2020-21 में 6-59 महीने के बच्चों में एनीमिया का प्रसार अधिक है. इसी दौरान उत्तर प्रदेश (66.4 प्रतिशत) के राज्यस्तरीय औसत की तुलना में 6-59 महीने के बच्चों में एनीमिया का प्रसार बांदा (82.2 प्रतिशत), हमीरपुर (68.5 प्रतिशत), झांसी (70.3 प्रतिशत) और महोबा (70.1 प्रतिशत) में अधिक है.

नोट: कृपया उपरोक्त चार्ट के डेटा को स्प्रैडशीट प्रारूप में एक्सेस करने के लिए यहां क्लिक करें

हीमोग्लोबिन ग्राम प्रति डेसीलीटर (g/dl) में. बच्चों में, व्यापकता ऊंचाई के लिए समायोजित की जाती है.

5 साल से कम उम्र के बच्चों में अधिक वजन की व्यापकता

भारत के मामले में, 5 वर्ष से कम उम्र के अधिक वजन वाले बच्चों का प्रतिशत 2015-16 और 2019-21 के बीच 2.1 प्रतिशत से बढ़कर 3.4 प्रतिशत हो गया है, यानी +1.3 प्रतिशत अंक की बढ़ोतरी. मध्य प्रदेश में 5 साल से कम उम्र के अधिक वजन वाले बच्चों का प्रतिशत 2015-16 और 2020-21 के बीच मामूली रूप से 1.7 प्रतिशत से बढ़कर 2.0 प्रतिशत हो गया है (यानी +0.3 प्रतिशत अंक) की बढ़ोतरी, जबकि उत्तर प्रदेश में इसी दौरान यह पहले से अधिक बढ़ गया है ( 1.5 प्रतिशत से 3.1 प्रतिशत) (यानी +1.6 प्रतिशत अंक की बढ़ोतरी). कृपया चार्ट-3 पर एक नजर डालें.

एनएफएचएस -4 और एनएफएचएस -5 के बीच छतरपुर (+0.2 प्रतिशत अंक), दमोह (+0.5 प्रतिशत अंक), दतिया (+1.1 प्रतिशत अंक), पन्ना (+1.0 प्रतिशत अंक), और सागर (+0.3 प्रतिशत अंक) जिलों में मोटापे का शिकार 5 वर्ष से कम उम्र के बच्चों के प्रतिशत में बढ़ोतरी हुई है, जबकि इसी दौरान टीकमगढ़ जिले में (-0.5 प्रतिशत अंक) मोटापे का शिकार 5 वर्ष से कम उम्र के बच्चों के प्रतिशत में कमी आई है.

हालांकि 2015-16 और 2020-21 के बीच चित्रकूट (+5.7 प्रतिशत अंक), हमीरपुर (+7.1 प्रतिशत अंक), जालौन (+1.9 प्रतिशत अंक), झांसी (+2.6 प्रतिशत अंक), ललितपुर (+6.2 प्रतिशत अंक), और महोबा (+3.2 प्रतिशत अंक) में जिलों में मोटापे का शिकार 5 वर्ष से कम उम्र वाले बच्चों का प्रतिशत बढ़ा है, जबकि इसी दौरान बांदा जिले में (-3.7 प्रतिशत अंक) मोटापे का शिकार 5 वर्ष से कम उम्र के बच्चों का प्रतिशत कम हो गया है.

साल 2015-16 और 2020-21 के बीच बुंदेलखंड क्षेत्र के 13 जिलों में से ग्यारह में मोटापे का शिकार 5 वर्ष से कम उम्र के बच्चों का अनुपात बढ़ा है.

2020-21 में मध्य प्रदेश (2.0 प्रतिशत) के राज्यस्तरीय औसत की तुलना में मोटापे का शिकार पांच साल से कम उम्र के बच्चों का प्रसार दमोह (2.4 प्रतिशत), दतिया (2.8 प्रतिशत), पन्ना (2.4 प्रतिशत) और सागर (2.3 प्रतिशत) में अधिक है. इसी दौरान उत्तर प्रदेश (3.1 प्रतिशत) के राज्यस्तरीय औसत की तुलना में बांदा (6.3 फीसदी), चित्रकूट (6.7 फीसदी), हमीरपुर (9.1 फीसदी), झांसी (3.3 फीसदी), ललितपुर (6.7 फीसदी), और महोबा (5.0 फीसदी) में मोटापे का शिकार पांच साल से कम उम्र के बच्चों का अनुपात अधिक है.

नोट: कृपया उपरोक्त चार्ट के डेटा को स्प्रैडशीट प्रारूप में एक्सेस करने के लिए यहां क्लिक करें

डब्ल्यूएचओ मानक के आधार पर +2 मानक विचलन से ऊपर।

एनएफएचएस-5 के बारे में

कृपया ध्यान दें कि राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण पांचवें दौर (एनएफएचएस -5) के चरण- I के लिए फील्डवर्क जून 2019-जनवरी 2020 के दौरान आयोजित किया गया था, और परिणाम (यानी, 22 राज्यों / केंद्रशासित प्रदेशों के लिए तथ्य पत्रक, और बाद में विस्तृत रिपोर्ट) और जिला स्तर की फैक्टशीट) दिसंबर 2020 में जारी की गई. जिन 22 राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों का पहले चरण में सर्वेक्षण किया गया, वे हैं आंध्र प्रदेश, असम, बिहार, गोवा, गुजरात, हिमाचल प्रदेश, कर्नाटक, केरल, महाराष्ट्र, मणिपुर, मेघालय, मिजोरम, नागालैंड, सिक्किम, तेलंगाना, त्रिपुरा, पश्चिम बंगाल, अंडमान निकोबार द्वीप, दादरा और नगर हवेली और दमन और दीव, जम्मू और कश्मीर, लद्दाख और लक्षद्वीप हैं.

एनएफएचएस -5 के चरण- II के लिए फील्डवर्क जनवरी 2020-अप्रैल 2021 के दौरान आयोजित किया गया था, और परिणाम (यानी, 14 राज्यों / केंद्र शासित प्रदेशों / जिलों के साथ-साथ भारत के लिए तथ्य पत्रक) नवंबर 2021 में जारी किए गए थे. दूसरे चरण में जिन राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों का सर्वेक्षण किया गया, उनमें अरुणाचल प्रदेश, चंडीगढ़, छत्तीसगढ़, हरियाणा, झारखंड, मध्य प्रदेश, दिल्ली का राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र, ओडिशा, पुडुचेरी, पंजाब, राजस्थान, तमिलनाडु, उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड शामिल हैं.

References

The DHS (Demographic and Health Surveys) Program, National, State and Union Territory, and District Fact Sheets 2019-21 National Family Health Survey NFHS-5 (English), USAID, please click here and here to access  

Stop stunting, UNICEF, please click here to access, please click here to access  

Malnutrition, UNICEF, April 2021, please click here to access 

Child Nutrition, October 2019, please click here to access

Progress for Children: A Report Card on Nutrition, Number 4, May 2006, please click here to access  

Millennium Development Goals Indicators, United Nations Statistics Division, please click here to access 

Malnutrition, World Health Organisation, 9 June, 2021, please click here to access  

Malnutrition in children: Stunting, wasting, overweight and underweight, World Health Organisation, please click here to access

Voices of the Invisible Citizens II: One year of COVID-19 — Are we seeing shifts in internal migration patterns in India? prepared by Migrants Resilience Collaborative (a Jan Sahas initiative) in collaboration with EdelGive Foundation and Global Development Incubator, released on 25th June, 2021, please click here to access

Water Resources Management of Bundelkhand, Uttar Pradesh Planning Department, Government of Uttar Pradesh, please click here to access

Bundelkhand: Overview of 2018 Monsoon, SANDRP, 12 October, 2018, please click here to access  

Bundelkhand: Building on Partnership -Rakesh Singh, Pradan, please click here to access 

Assessment of Impact of Drought on Men, Women and Children: An Inter-Agency Initiative, Rapid Assessment Survey conducted in Banda, Chitrakoot, Siddharth Nagar, Sonbhadga & Mahoba districts of Uttar Pradesh during 2016, Prepared by CASA, ActionAid, UNICEF, please click here to access

Bundelkhand Drought Impact Assessment Survey 2015, Swaraj Abhiyan in association with Parmarth, Orai, please click here to access

Bundelkhand Historic Region, India, Britannica.com, please click here to access  

Study on Bundelkhand, Planning Commission, please click here to access  

In five years we have done more work on Saryu canal project than what was done in five decades: PM, 11 December, 2021, please click here to access

Defence Industrial Corridors, Ministry of Defence, Press Information Bureau, 3 December, 2021, please click here to access

Expressways, airports, AIIMS: Yogi government’s big infra race before polls -Maulshree Seth, The Indian Express, 27 November, 2021, please click here to read more 

PM Modi to launch Rs.6300 crore projects in Bundelkhand region of Uttar Pradesh -Haidar Naqvi, Hindustan Times, 18 November, 2021, please click here to access

Dried Wells, Broken Dams, Distressed Villagers Define UP’s Multi-Crore ‘Bundelkhand Package’ -Dheeraj Mishra, TheWire.in, 27 October, 2021, please click here to access 

No one needs the Ken-Betwa Link Project -Himanshu Thakkar, The Indian Express, 8 April, 2021, please click here to read more 

The DHS (Demographic and Health Surveys) Program, National, State and Union Territory, and District Fact Sheets 2019-21 National Family Health Survey NFHS-5 (English), USAID, please click here and here to access  

Participant Manual for Facility Based Care of Severe Acute Malnutrition (2013), Ministry of Health and Family Welfare, please click here to access  

Types of Acute Malnutrition, Action against hunger, please click here to access  

Double burden of malnutrition, World Health Organisation, please click here to access  

Haemoglobin cut-off values for the diagnosis of anaemia in preschool-age children -Ehab Hamed, Mohamed Ahmed Syed, Bayan Faleh Alemrayat, Syed Hammad Anwar Tirmizi, and Ahmed Sameer Alnuaimi (2021), American Journal of Blood Research, 11(3): 248–254, Published online 2021 Jun 15, please click here to access  

Prevalence of anaemia among 6- to 59-month-old children in India: the latest picture through the NFHS-4 -Susmita Bharati, Manoranjan Pal and Premananda Bharati (2019), Journal of Biosocial Science, Published online by Cambridge University Press:  20 May 2019, please click here to access  

UNICEF Programming Guidance: Prevention of Overweight and Obesity in Children and Adolescents, published in August 2019, please click here to access

Bundelkhand: Building on Partnership -Rakesh Singh, Pradan (NGO), NewsReach March–April 2015, please click here to access 

Union Health Ministry releases NFHS-5 Phase-II Findings, Press Information Bureau, Ministry of Health and Family Welfare, 24 November, 2021, please click here to access 

Phase-I Findings, National Family Health Survey-5, Press Information Bureau, Ministry of Health and Family Welfare, 15 December, 2020, please click here to access 

News alert: The under-nutrition problem in Bundelkhand should receive equal attention of the policymakers, if not more, Inclusive Media for Change, Published on Dec 26, 2021, please click here to access  

A close reading of the NFHS-5, the health of India -Ashwini Deshpande, The Hindu, 27 November, 2021, please click here to read more

District Factsheet: Chhatarpur, Madhya Pradesh, NFHS-5, 2020-21, Ministry of Health and Family Welfare, please click here to access 
***
District Factsheet: Damoh, Madhya Pradesh, NFHS-5, 2020-21, Ministry of Health and Family Welfare, please click here to access 
***
District Factsheet: Datia, Madhya Pradesh, NFHS-5, 2020-21, Ministry of Health and Family Welfare, please click here to access 
***
District Factsheet: Panna, Madhya Pradesh, NFHS-5, 2020-21, Ministry of Health and Family Welfare, please click here to access 
***
District Factsheet: Sagar, Madhya Pradesh, NFHS-5, 2020-21, Ministry of Health and Family Welfare, please click here to access

***
District Factsheet: Tikamgarh, Madhya Pradesh, NFHS-5, 2020-21, Ministry of Health and Family Welfare, please click here to access 
***
Madhya Pradesh Factsheet, NFHS-5, 2020-21, Ministry of Health and Family Welfare, please click here to access 

Uttar Pradesh — 

District Factsheet: Banda, Uttar Pradesh, NFHS-5, 2020-21, Ministry of Health and Family Welfare, please click here to access 
***
District Factsheet: Chitrakoot, Uttar Pradesh, NFHS-5, 2020-21, Ministry of Health and Family Welfare, please click here to access 
***
District Factsheet: Hamirpur, Uttar Pradesh, NFHS-5, 2020-21, Ministry of Health and Family Welfare, please click here to access 
***
District Factsheet: Jalaun, Uttar Pradesh, NFHS-5, 2020-21, Ministry of Health and Family Welfare, please click here to access 
***
District Factsheet: Jhansi, Uttar Pradesh, NFHS-5, 2020-21, Ministry of Health and Family Welfare, please click here to access 
***
District Factsheet: Lalitpur, Uttar Pradesh, NFHS-5, 2020-21, Ministry of Health and Family Welfare, please click here to access  
***

District Factsheet: Mahoba, Uttar Pradesh, NFHS-5, 2020-21, Ministry of Health and Family Welfare, please click here to access 

***
Uttar Pradesh Factsheet, NFHS-5, 2020-21, Ministry of Health and Family Welfare, please click here to access  

India Factsheet, NFHS-5, 2019-21, Ministry of Health and Family Welfare, please click here to access

स्रोत: मध्य प्रदेश —

District Factsheet: Chhatarpur, Madhya Pradesh, NFHS-5, 2020-21, Ministry of Health and Family Welfare, please click here to access 
***
District Factsheet: Damoh, Madhya Pradesh, NFHS-5, 2020-21, Ministry of Health and Family Welfare, please click here to access 
***
District Factsheet: Datia, Madhya Pradesh, NFHS-5, 2020-21, Ministry of Health and Family Welfare, please click here to access 
***
District Factsheet: Panna, Madhya Pradesh, NFHS-5, 2020-21, Ministry of Health and Family Welfare, please click here to access 
***
District Factsheet: Sagar, Madhya Pradesh, NFHS-5, 2020-21, Ministry of Health and Family Welfare, please click here to access

***
District Factsheet: Tikamgarh, Madhya Pradesh, NFHS-5, 2020-21, Ministry of Health and Family Welfare, please click here to access 
***
Madhya Pradesh Factsheet, NFHS-5, 2020-21, Ministry of Health and Family Welfare, please click here to access 

Uttar Pradesh — 

District Factsheet: Banda, Uttar Pradesh, NFHS-5, 2020-21, Ministry of Health and Family Welfare, please click here to access 
***
District Factsheet: Chitrakoot, Uttar Pradesh, NFHS-5, 2020-21, Ministry of Health and Family Welfare, please click here to access 
***
District Factsheet: Hamirpur, Uttar Pradesh, NFHS-5, 2020-21, Ministry of Health and Family Welfare, please click here to access 
***
District Factsheet: Jalaun, Uttar Pradesh, NFHS-5, 2020-21, Ministry of Health and Family Welfare, please click here to access 
***
District Factsheet: Jhansi, Uttar Pradesh, NFHS-5, 2020-21, Ministry of Health and Family Welfare, please click here to access 
***
District Factsheet: Lalitpur, Uttar Pradesh, NFHS-5, 2020-21, Ministry of Health and Family Welfare, please click here to access  
***

District Factsheet: Mahoba, Uttar Pradesh, NFHS-5, 2020-21, Ministry of Health and Family Welfare, please click here to access 

***
Uttar Pradesh Factsheet, NFHS-5, 2020-21, Ministry of Health and Family Welfare, please click here to access  

India Factsheet, NFHS-5, 2019-21, Ministry of Health and Family Welfare, please click here to access