मंगलवार, 07 फ़रवरी 2023
जल जंगल जमीन

धान के MSP में 5 साल की सबसे कम बढ़ोतरी, सिर्फ 53 रुपये बढ़े



केंद्र सरकार दावा तो लागत पर डेढ़ गुना दाम देने का कर रही है, लेकिन कई खरीफ फसलों के दाम पिछले साल से भी कम बढ़े हैं

केंद्र सरकार ने खरीफ सीजन 2020-21 के लिए 14 प्रमुख फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) का ऐलान कर दिया है। अधिकांश खरीफ फसलों के एमएसपी में मामूली बढ़ोतरी की गई है जो पिछले साल से भी कम है। कोरोना संकट से जूझ रहे किसानों के लिए यह बड़ा झटका है।

सरकार ने सामान्य प्रजाति के धान का एमएसपी 1,868 रुपये प्रति कुंतल तय किया है जो पिछले साल से मात्र 53 रुपये ज्यादा है। ग्रेड ‘ए’ प्रजाति के धान का एमएसपी 1,888 रुपये तय किया गया है। पिछले साल धान के एमएसपी में 65 रुपये की बढ़ोतरी हुई थी। इस साल धान का एमएसपी पिछले पांच साल में सबसे कम 2.92 फीसदी बढ़ा है। फिर भी सरकार वाहवाही लूट रही है।

सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई आर्थिक मामलों की कैबिनेट समिति ने खरीफ फसलों के समर्थन मूल्य में पिछले साल के मुकाबले 2.1 से लेकर 12.7 फीसदी तक बढ़ोतरी का निर्णय लिया है। किसानों के लिहाज से एमएसपी में यह बहुत कम बढ़ोतरी है, जबकि केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने किसानों को लागत पर 50 गुना मुनाफा देने का दावा किया है। उनका कहना है कि खरीफ फसलों के एमएसपी में लागत के मुकाबले 50 से 83 फीसदी की बढ़ोतरी की गई है जो लागत पर डेढ़ गुना दाम देने के सरकार के वादे के अनुरूप है।

दरअसल, उन्होंने यह नहीं बताया कि एमएसपी तय करने के लिए पूरी लागत यानी सी2 की बजाय कमतर लागत को आधार बनाया गया है।

स्वराज इंडिया पार्टी के नेता योगेंद्र यादव का कहना है कि इस साल खरीफ फसलों के एमएसपी में पिछले साल से भी कम बढ़ोतरी की गई है। धान का एमएसपी इस साल सिर्फ 2.92 फीसदी बढ़ा है जबकि पिछले साल इसमें 3.71 फीसदी की बढ़ोतरी हुई थी। इसी तरह ज्वार का एमएसपी इस साल सिर्फ 2.74 फीसदी बढ़ा है जबकि पिछले साल 4.93 फीसदी बढ़ा था। हालांकि, बाजारा और कपास के समर्थन मूल्य में पिछले साल के मुकाबले थोड़ी अधिक बढ़ोतरी हुई है। लेकिन इससे ज्यादस तो हर साल महंगाई बढ़ जाती है। देश के कई नेता खरीफ फसलों के एमएसपी में मामूली बढ़ोतरी पर सवाल उठा रहे हैं।

 

इस साल सरकार ने हाइब्रिड ज्वार का एमएसपी 70 रुपये बढ़ाकर 2620 रुपये, बाजरा का एमएसपी 150 रुपये बढ़ाकर 2150 रुपये, मक्का का एमएसपी 90 रुपये बढ़ाकर 1850 रुपये, अरहर का एमएसपी 200 रुपये बढ़ाकर 6000 रुपये, मूंग का एमएसपी 146 रुपये बढ़ाकर 7196 रुपये, उड़द का एमएसपी 300 रुपये बढ़ाकर 6000 रुपये, मूंगफली का एमएसपी 185 रुपये बढ़ाकर 5275 रुपये, सोयाबीन का एमएसपी 170  रुपये बढ़ाकर 3880 रुपये और कपास का एमएसपी 260 रुपये बढ़ाकर 5515 रुपये कर दिया है।

कितना बढ़ा समर्थन मूल्य

 

फसल

2019-20

खरीफ एमएसपी

(रुपए प्रति कुंतल)

2020-21

खरीफ एमएसपी

(रुपए प्रति कुंतल)

 

बढ़ोतरी

(रुपए में)

धान (कॉमन) 1,815 1,868 53
धान(ग्रेड ए) 1835 1,888 53
ज्वार (हाइब्रिड) 2,550 2,620 70
ज्वार(मालडांडी) 2,570 2,640 70
बाजरा 2,000 2,150 150
रागी 3,150 3,295 145
मक्का 1,760 1,850 90
तूर (अरहर) 5,800 6,000 200
मूंग 7,050 7,196 146
उड़द 5700 6,000 300
मूंगफली 5,090 5,275 185
सूरजमुखी बीज 5,650 5,885 235
सोयाबीन (पीला) 3,170 3,880 170
तिल 6,485 6,855 370
नाइजर सीड 5,940 6,695 755
कपास (मीडियम स्टेपल) 5,255 5,515 260
कपास (लॉन्ग स्टेपल) 5,550 5,825 275