बुधवार, 07 दिसंबर 2022
खेत-खलिहान

बारिश ने किसानों की नींद हराम की, सरकार अभी चैन की नींद सो रही



सरकार को एक विशेष गिरदावरी (सर्वेक्षण) करना चाहिए और किसानों को राज्य भर में पिछले दिनों हुई भारी बारिश के कारण हुई फसल के नुकसान की भरपाई करनी चाहिए.

हरियाणा में लगातार हो रही बारिश ने सूबे के किसानों की चिंता बढ़ा दी है. धान की फसल पकने के समय इतनी अधिक बारिश होने से किसान काफी चिंतित हैं. किसानों ने कहा कि अगर बारिश ऐसे ही जारी रही तो वे बिल्कुल तबाह हो जाएंगे. नुकसान तो हो ही चुका है.

सोनीपत और पानीपत जिले के गोहाना, मुंडलाना और कथुरा ब्लॉक में खेतों में सबसे अधिक जलभराव देखने को मिला है और धान की खड़ी फसल चौपट हो गई है..

सोनीपत जिले के कथुरा ब्लॉक के भैंसवां खुर्द गांव के किसान भगत सिंह ने कहा , “हमारे इलाके में अधिकांश धान देर से बोया जाता है और यह फूल अवस्था में होता है. खेतों में करीब एक फुट दो फुट पानी है और धान की फसल चौपट हो गई है.”

कृषि विभाग के विषय विशेषज्ञ (एसएमएस) देवेंद्र कोहाड़ ने कहा कि सोनीपत में 2.25 लाख एकड़ में धान की फसल बोई गई थी और 90 प्रतिशत किसानों ने धान की देर से बुवाई की थी.

उन्होंने कहा, “जिले के तीन ब्लॉक- कथुरा, मुंडलाना और गोहाना में जलभराव की समस्या है, इसलिए हमने किसानों को सलाह दी है कि जब तक बारिश नहीं रुकती, तब तक क्षेत्र में कपास और बाजरा की कटाई बंद कर दें.”

पानीपत में कृषि विभाग के उप निदेशक वजीर सिंह ने कहा कि 95 प्रतिशत किसानों ने जिले में लगभग 1.80 लाख एकड़ में बासमती धान की किस्मों की बुवाई की थी, जबकि 5-7 प्रतिशत संकर फसल की थी. उन्होंने कहा कि क्षेत्र में पिछले तीन दिनों से लगातार बारिश के कारण संकर फसल को नुकसान हुआ है.

मूसलाधार बारिश ने फसलों को नुकसान पहुंचाया है जिससे कई गांवों के किसान परेशान हैं. किसान विशेष गिरद्वारी (नुकसान सर्वेक्षण) की मांग भी उठा रहे हैं.

कृषि विभाग के सूत्रों ने कहा, “भारी बारिश के कारण जलभराव के कारण कपास, बाजरा, ज्वार और धान की खरीफ फसलों को नुकसान पहुंचा है.” हजारों हेक्टेयर से अधिक भूमि पर पानी 3 फीट से 4 फीट तक जमा हो गया है.

गुघेरा गांव के एक किसान राजकुमार ओहल्यान ने कहा कि बाजरे और धान जैसी फसलें, जो कटाई के लिए तैयार थीं, फसल के चपटे होने से बड़ा नुकसान हुआ था. कटाई में देरी अंततः कई क्षेत्रों में गेहूं की बुवाई में बाधा उत्पन्न कर सकती है. उन्होंने कहा कि किसान नुकसान को लेकर चिंतित हैं, इसलिए सरकार को एक सर्वेक्षण का आदेश देना चाहिए और प्रभावित गांवों में पानी की निकासी सुनिश्चित करने के अलावा राहत राशि जारी करनी चाहिए. बंचारी गांव के किसान अजीत कहते हैं, ”बारिश के कारण कई एकड़ में कपास की फसल बर्बाद हो गई है. यह मामला संबंधित अधिकारियों के संज्ञान में पहले ही लाया जा चुका है.”

आधिकारिक सूत्रों के अनुसार शनिवार सुबह तक पलवल खंड में 120 मिमी, होडल में 96 मिमी, हथीन में 52 मिमी और हसनपुर उपमंडल में 34 मिमी बारिश दर्ज की गई है. दावा किया गया है कि बारिश ने लगभग 61,000 हेक्टेयर में खड़ी फसलों को प्रभावित किया है. इसमें 18,140 हेक्टेयर में कपास, 25,183 हेक्टेयर में धान, 14,307 हेक्टेयर में ज्वार, 4,000 में बाजरा और 4,640 हेक्टेयर में गन्ना शामिल है. कृषि विशेषज्ञ डॉ महवीर मलिक कहते हैं, “लगभग सभी खरीफ फसलों को नुकसान के साथ, खेतों में खड़े पानी को जल्द से जल्द हटाने की जरूरत है ताकि आगे नुकसान से बचा जा सके.”

दक्षिण हरियाणा के अहिरवाल क्षेत्र में किसानों के बाजरे की फसल में भी काफी नुकसान हुआ है. बाजरे की खड़ी फसल तेज हवा के साथ हुई बारिश के कारण गिर भी गई है. रेवाड़ी के एक अधिकारी ने बताया कि कृषि विभाग ने अपनी फसल का बीमा करवाने वाले किसानों को 72 घंटे के भीतर नुकसान की सूचना विभाग को देने को कहा है. उन्होंने कहा कि किसान फार्म भरकर जमा करें, ताकि बीमा कंपनी को हुए नुकसान की जानकारी मिल सके.

हिसार में नहर में दरार

भारी बारिश के कारण भिवानी जिले के रोहनात गांव के पास नहर में दरार आने से ओवरफ्लो हो गया है. इससे कई हजार एकड़ में खड़ी फसल जलमग्न हो गई है. ग्रामीणों ने कहा कि सुंदर शाखा में दरार आ गई है. एक वरिष्ठ कृषि अधिकारी ने कहा कि बारिश से उन फसलों को नुकसान होगा जिनकी कटाई होने वाली थी.

कॉटन बेल्ट सबसे ज्यादा प्रभावित, क्योंकि गुलाबी बॉलवॉर्म ने पहले कहर बरपाया था. हिसार में शुक्रवार से हो रही भारी बारिश से कपास, धान, बाजरा, ग्वार और मूंग की खरीफ फसलों को व्यापक नुकसान हुआ है.

कपास किसानों को सबसे ज्यादा नुकसान हुआ है क्योंकि पिछली बार बारिश और पिंक बॉलवर्म ने पहले ही फसल को काफी नुकसान पहुंचाया है. हिसार, भिवानी, फतेहाबाद और सिरसा वाले क्षेत्र को कपास की पट्टी के रूप में जाना जाता है. इसके अलावा, इस क्षेत्र में धान, बाजरा और ग्वार की फसलें भी उगाई जाती हैं. खरीफ की फसल की कटाई होने वाली है और बारिश ने फसलों को चोपट कर दिया है. हिसार में खेतों में पानी भर गया है.

पिछले पांच दिनों से हो रही भारी बारिश करनाल और कैथल जिलों के किसानों की रातों की नींद हराम कर रही है क्योंकि इससे उनकी खड़ी धान की फसल को ‘व्यापक’ नुकसान हुआ है. बारिश के कारण जिन खेतों में फसल पक चुकी है, वहां जलभराव हो गया है, जिसको निकालने के लिए किसान हाथ-पांव मार रहे हैं.

पके धान के रंगहीन दाने।

कृषि विभाग के आंकड़ों के अनुसार करनाल जिले में करीब 90,000 एकड़ और कैथल जिले में करीब 4,000 एकड़ में जलभराव की सूचना है. अब तक, अधिकारी करनाल जिले में लगभग 10-15 प्रतिशत और कैथल जिले में 5 प्रतिशत नुकसान की उम्मीद कर रहे हैं. किसानों ने कहा कि मुख्य रूप से कम अवधि की पूसा-1509 और पीआर-126 जैसी किस्मों को नुकसान पहुंचा है. उन्होंने कहा कि नमी की मात्रा अधिक होने से भविष्य में बाजार में कीमतों में गिरावट आ सकती है.

नीलोखेड़ी ब्लॉक के किसान इंद्रजीत सिंह ने कहा, “मैंने 25 एकड़ में बासमती और पीआर किस्में अपने पांच किलों में उगाई थी. भारी बारिश ने न केवल मेरी फसल को चौपट कर दिया है, बल्कि खेतों में जलभराव भी कर दिया है. इससे फसल को नुकसान होगा, ”

जो लोग अपनी फसल काट कर अनाज मंडियों में पहुंच चुके हैं, वे आढ़तियों की जारी हड़ताल के कारण अपनी उपज नहीं बेच पा रहे हैं. करनाल के नरुखेड़ी गांव के किसान सुनील ने कहा कि वह अपनी उपज बेचने के लिए पांच दिनों से यहां अनाज मंडी में इंतजार कर रहे थे, लेकिन आढ़तियों की हड़ताल के कारण कोई भी इसे खरीदने के लिए आगे नहीं आया. इसके अलावा, बारिश ने उनकी उपज को नुकसान पहुंचाया है क्योंकि अनाज मंडी में अपर्याप्त व्यवस्था थी. करनाल के उप निदेशक कृषि (डीडीए) आदित्य डबास ने कहा कि 4.15 लाख एकड़ में धान की फसल की खेती की गई थी, जिसमें से 97,500 एकड़ में बासमती, 10,000 एकड़ में डुप्लीकेट बासमती (मुछल) और 3,07,500 एकड़ गैर-बासमती किस्मों की खेती की गई थी.

आदित्य डबास ने बताया, “पानी का ठहराव अनाज को फीका कर सकता है. ऐसी स्थितियों में कीड़े भी हमला करते हैं, ”

कैथल के डीडीए करम चंद ने कहा कि कैथल जिले में 4 लाख एकड़ में धान की खेती की गई थी, जिसमें 1.25 लाख एकड़ में बासमती, जबकि 2.75 लाख एकड़ में गैर-बासमती किस्मों की खेती की गई थी.

बीकेयू ने की किसानों के लिए राहत की मांग

भारतीय किसान संघ (सर छोटू राम) राज्य कोर कमेटी के सदस्य जगदीप सिंह औलख ने मांग की कि सरकार को एक विशेष गिरदावरी (सर्वेक्षण) करना चाहिए और किसानों को राज्य भर में पिछले दिनों हुई भारी बारिश के कारण हुई फसल के नुकसान की भरपाई करनी चाहिए.