सोमवार, 03 अक्टूबर 2022
टॉप न्यूज़

ऐलनाबाद उपचुनाव: अभय सिंह को पटखनी देने के लिए लगोंट कस रहे दिग्विजय चौटाला!



चाचा भी कई बार सार्वजनिक मंचों से दिग्विजय को चुनाव के लिए ललकार चुके हैं.

भारत निर्वाचन आयोग द्वारा देश के विभिन्न राज्यों में उपचुनाव के कार्यक्रम की घोषणा ने हरियाणा के सिरसा जिले के ऐलनाबाद विधानसभा क्षेत्र में एक महत्वपूर्ण मुकाबले के लिए राजनैतिक मैदान तैयार कर दिया गया है. इस मैदान में यानी उपचुनाव में न केवल सत्तारूढ़ भाजपा-जजपा गठबंधन का दमखम बल्कि इनेलो के लिए उनका आखरी किला बचाने और कांग्रेस के लिए अपना जनाधार साबित करने का चुनावी खेल होगा.

हरियाणा में भाजपा-जजपा गठबंधन की सरकार बनने के ठीक दो साल बाद ऐलनाबाद विधानसभा सीट पर दूसरा उपचुनाव होने जा रहा है. तीन साल पहले संगठन के दो फांक होने के बाद इनेलो 2019 के विधानसभा चुनाव में सिर्फ एक सीट (ऐलनाबाद) पर सिमट गई थी. 30 अक्टूबर को होने जा रहे इस उपचुनाव में देवीलाल परिवार के लोगों के बीच कड़ा मुकाबला होने के कयास लगाए जा रहे हैं.

इन कयासों के पीछे दिग्विजय चौटाला का विधायक बनने का सपना और अभय चौटाला का खुद को देवीलाल परिवार का असली राजनैतिक वारिस साबित करने की मंशा छुपी हुई है. हालांकि अभी किसी भी पार्टी ने अपने उम्मीदारों के नाम फाइनल नहीं किए हैं.  

ऐलनाबाद उपचुनाव में भाजपा-जजपा गठबंधन की यह सीट जजपा के खाते में जाने वाली है, क्योंकि बरौदा में भाजपा का उम्मीदवार चुनावी मैदान में था. भाजपा से चुनाव लड़ने की इच्छा रखने वाले पवन बैनीवाल को जब इस बात का भान हुआ कि यह सीट जजपा के खाते में जा रही है तो वह कुछ दिन पहले ही कांग्रेस में शामिल हो गए.

जजपा की ओर से दिग्विजय चौटाला का नाम उम्मीदवारों की सूची में पहले स्थान पर चल रहा है. वह अपने नजदीकी कार्यकर्ताओं से चुनाव लड़ने के लिए सलाह-मशवरा भी कर रहे हैं. अगर दिग्विजय चुनाव लड़ते हैं तो यह चुनाव काफ़ी दिलचस्प हो जाएगा. यह चुनाव पारिवारिक राजनैतिक विरासत पर अपना दावा कायम करने वाला चुनाव हो जाएगा. हालांकि दिग्विजय ने इसको लेकर कोई ब्यानबाजी नहीं की है, लेकिन वह अपने चाचा को पटखनी देने के लिए पर्दे के पीछे लंगोट कस रहे हैं. उनके चाचा भी कई बार सार्वजनिक मंचों से दिग्विजय को चुनाव के लिए ललकार चुके हैं.

विधानसभा चुनाव में लगातार दो हार के बाद कांग्रेस भी अपनी जमीन फिर से हासिल करने की कोशिश कर रही है. प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कुमारी शैलजा पार्टी कैडर को एक साथ रखने की कोशिश कर रही हैं. उन्होंने पार्टी के महिला प्रकोष्ठ द्वारा आयोजित ‘महिला पंचायत’ के बाद यमुनानगर में मीडिया को बताया, “कांग्रेस निश्चित रूप से उपचुनाव लड़ेगी और जीतेगी. हम पार्टी की बैठक के बाद उम्मीदवार की घोषणा करेंगे.”

विधानसभा परिणाम 2019

अभय सिंह चौटाला इनेलो 57,055

पवन बेनीवाल भाजपा 45,133

भरत सिंह बेनीवाल कांग्रेस 35,383

ओपी सिहाग जजपा 6,569