शुक्रवार, 27 जनवरी 2023
पर्यावरण

जलवायु परिवर्तन से उपजी चरम मौसमी घटनाओं ने 2021 में दुनिया के खरबों डॉलर डुबा दिए


https://pixabay.com/illustrations/climate-change-global-warming-2063240/

दुनिया की सबसे महंगी चरम मौसमी घटनाओं में से दस की लागत 1.5 ट्रिलियन डॉलर से अधिक है। इस सूची में अमेरिका में अगस्त में आया तूफ़ान इडा सबसे ऊपर है, जिसकी अनुमानित लागत 65 बिलियन डॉलर है। वहीँ जुलाई में यूरोप में आयी बाढ़ में 43 अरब डॉलर का नुकसान हुआ था।

इन आंकड़ों का ख़ुलासा करती है क्रिश्चियन एड की ताज़ा रिपोर्ट काउंटिंग द कॉस्ट 2021: ए ईयर ऑफ क्लाइमेट ब्रेकडाउन।  यह रिपोर्ट बीते साल की 15 सबसे विनाशकारी जलवायु आपदाओं की पहचान करती है और इन घटनाओं में से दस की लागत डेढ़ ट्रिलियन डॉलर या उससे अधिक बताती है। इनमें से अधिकांश अनुमान केवल बीमित हानियों पर आधारित हैं, जिसका मतलब है कि वास्तविक वित्तीय लागत और भी अधिक होने की संभावना है। इनमें अगस्त में अमेरिका में आया तूफान इडा भी शामिल है, जिसकी लागत 65 अरब डॉलर पड़ी और जिसमें 95 लोगों की मौत हो गयी। जुलाई में यूरोप में आयी बाढ़ में 43 अरब डॉलर बरबाद हुए और 240 लोग मारे गए और चीन के हेनान प्रांत में आयी बाढ़ से 17.5 अरब डॉलर का विनाश हुआ, 320 लोगों की मौत हुई और 10 लाख से अधिक लोग विस्थापित हुए।

यह रिपोर्ट वित्तीय लागतों पर केंद्रित है, जो आमतौर पर अमीर देशों में अधिक होती हैं क्योंकि उनके पास उच्च संपत्ति मूल्य होते हैं और वे बीमा का खर्च उठा सकते हैं। 2021 में सबसे विनाशकारी चरम मौसम की घटनाओं में से कुछ ने गरीब देशों को प्रभावित किया, जिन्होंने जलवायु परिवर्तन लाने में बहुत कम योगदान किया है। फिर भी वित्तीय लागत के अलावा, इन चरम मौसम की घटनाओं ने खाद्य असुरक्षा, सूखे और गंभीर मानवीय पीड़ा को जन्म दिया है जिससे बड़े पैमाने पर विस्थापन और जीवन क्षति हुई है। दक्षिण सूडान ने भयानक बाढ़ का अनुभव किया है, जिसने 850,000 से अधिक लोगों को अपने घरों से भागने के लिए मजबूर किया है, जिनमें से कई पहले से ही आंतरिक रूप से विस्थापित हो चुके हैं। दूसरी ओर पूर्वी अफ्रीका सूखे से तबाह हो रहा है जो जलवायु संकट के अन्याय को उजागर करता है।

2021 में कुछ आपदाएं एक के बाद एक तेजी से हुईं, जैसे चक्रवात यास, जिसने मई में भारत और बांग्लादेश को प्रभावित किया और जिससे कुछ ही दिनों में तीन अरब डॉलर का नुकसान हुआ। अन्य घटनाओं को सामने आने में महीनों लग गए, जैसे लैटिन अमेरिका में पराना नदी का सूखा, जिसने नदी को, जो इस क्षेत्र की अर्थव्यवस्था का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है, 77 वर्षों में अपने निम्नतम स्तर पर देखा है और ब्राजील, अर्जेंटीना और पराग्वे में जीवन और आजीविका को प्रभावित किया है।

दस सबसे महंगी घटनाओं में से चार एशिया में हुईं, जिसमें बाढ़ और आंधी-तूफान से हुए कुल नुकसान की लागत 24 बिलियन डॉलर थी। चरम मौसम का असर पूरी दुनिया में महसूस किया गया। ऑस्ट्रेलिया को मार्च में बाढ़ का सामना करना पड़ा, जिसमें 18,000 लोग विस्थापित हुए और 2.1 बिलियन डॉलर का नुकसान हुआ और कनाडा के ब्रिटिश कोलंबिया में बाढ़ से 7.5 बिलियन डॉलर का नुकसान हुआ और 15,000 लोगों को अपने घरों को छोड़कर भागना पड़ा। अमेरिका में हाल के तूफानों पर बीमा और वित्तीय नुकसान के आंकड़े अधूरे हैं, इसलिए इस रिपोर्ट में शामिल नहीं है, लेकिन अगले साल के अध्ययन में शामिल किये जा सकते हैं।

बीमाकर्ता एओन ने चेतावनी दी है कि 2021 में छठी बार वैश्विक प्राकृतिक आपदाओं के 100 अरब डॉलर के बीमित नुकसान की सीमा को पार करने की उम्मीद है। सभी छह 2011 के बाद से हुए हैं और 2021 पांच साल में चौथा होगा।

रिपोर्ट में चाड बेसिन में सूखे जैसे धीमी गति से विकसित होने वाले संकटों पर भी प्रकाश डाला गया है, जिसने 1970 के दशक से चाड झील को 90 फीसद तक सिकुड़ते देखा है और जिससे इस क्षेत्र में रहने वाले दुनिया के लाखों सबसे गरीब लोगों के जीवन और आजीविका को खतरा है।

ये चरम घटनाएं ठोस जलवायु कार्रवाई की आवश्यकता को उजागर करती हैं। पेरिस समझौता, पूर्व-औद्योगिक स्तरों की तुलना में तापमान वृद्धि को 1.5 डिग्री सेल्सियस के भीतर रखने का लक्ष्य निर्धारित करता है, फिर भी ग्लासगो में COP26 के परिणाम वर्तमान में इस लक्ष्य को पूरा करने के लिए दुनिया को ट्रैक पर नहीं छोड़ते हैं। यही कारण है कि और बहुत ज़्यादा तत्काल कार्रवाई आवश्यक है।

यह भी महत्वपूर्ण है कि 2022 में सबसे कमज़ोर देशों को वित्तीय सहायता प्रदान करने के लिए ज़्यादा प्रयास किया जाए, विशेष रूप से जलवायु परिवर्तन के कारण गरीब देशों में स्थायी नुकसान और क्षति से निपटने के लिए एक कोष का निर्माण।

रिपोर्ट लेखक डॉ. कैट क्रेमर, क्रिश्चियन एड की जलवायु नीति प्रमुख, कहते हैं, “जलवायु परिवर्तन की लागत इस साल गंभीर रही है, न सिर्फ वित्तीय नुकसान के मामले में, बल्कि दुनिया भर में लोगों की मृत्यु और विस्थापन के मामले में भी। यह दुनिया के कुछ सबसे अमीर देशों में तूफ़ान और बाढ़ हो या कुछ सबसे गरीब देशों में सूखा और गर्मी की लहरें, 2021 में जलवायु संकट ने कड़ा प्रहार किया। हालांकि COP26 शिखर सम्मेलन में हुई कुछ प्रगति को देखना अच्छा था, यह स्पष्ट है कि दुनिया एक सुरक्षित और समृद्ध दुनिया सुनिश्चित करने की राह पर नहीं है।”

बांग्लादेश में क्रिश्चियन एड के जलवायु न्याय सलाहकार नुसरत चौधरी कहते हैं, “जलवायु संकट 2021 में समाप्त नहीं हुआ है। मेरे अपने देश बांग्लादेश ने यह निजी तौर पर देखा है, चक्रवात यास की पीड़ा और समुद्र के स्तर में वृद्धि के बढ़ते खतरे। मैं ग्लासगो में COP26 में था और जबकि हमने राजनेताओं के बहुत सारे हार्दिक शब्द सुने, हमें एक ऐसी कार्रवाई की ज़रूरत है जिससे उत्सर्जन में तेज़ी से गिरावट आए और जरूरतमंदों को सहायता मिले। हालाँकि, COP26 में नुकसान और क्षति के मुद्दे को एक प्रमुख मुद्दा बनते देखना अच्छा था, लेकिन जलवायु परिवर्तन से स्थायी नुकसान झेल रहे लोगों की वास्तव में मदद करने के लिए एक फंड की स्थापना के बिना इसे छोड़ना बेहद निराशाजनक था। उस फंड को जीवित करना 2022 में वैश्विक प्राथमिकता होनी चाहिए।”

डॉ. अंजल प्रकाश, भारती इंस्टीट्यूट ऑफ पब्लिक पॉलिसी, इंडियन स्कूल ऑफ बिजनेस में शोध निदेशक हैं। वह बदलती जलवायु में महासागरों और क्रायोस्फीयर पर IPCC (आईपीसीसी) की विशेष रिपोर्ट में समन्वयक व प्रमुख लेखक थे। उनके अनुसार, “यह औद्योगिक उत्तर है जिसने आज हम जो जलवायु परिवर्तन देखते हैं, उसमें बहुत योगदान दिया है। वे देश 2020 तक प्रति वर्ष 100 अरब डॉलर का जलवायु वित्त जुटाने के लिए सहमत हुए थे लेकिन इस लक्ष्य को पूरा करने में विफल रहे। COP 26 के दौरान वैश्विक दक्षिण के देश इस उम्मीद के साथ आए थे कि सभा उन्हें अनुकूलन और वित्तपोषण पर वैश्विक लक्ष्य प्राप्त करने के लिए एक रोडमैप दिखाएगी जो पेरिस समझौते का एक प्रमुख घटक था।

“जैसे ये नई रिपोर्ट बताती है, भारत उन देशों में से एक है जो जलवायु परिवर्तन प्रेरित आपदाओं की वजह से से बहुत वंचित है। जलवायु न्याय के सिद्धांतों का पालन करते हुए वैश्विक दक्षिण के देश इसका खामियाजा भुगत रहे हैं, इसलिए प्रौद्योगिकी हस्तांतरण और अनुकूलन वित्त का आह्वान करना चाहिए।”

कोलोराडो के फोर्ट लुइस कॉलेज में पर्यावरण और सस्टेनेबिलिटी और जीव विज्ञान की प्रोफेसर डॉ. हेडी स्टेल्ट्ज़र ने कहा, “यह एक शक्तिशाली और महत्वपूर्ण रिपोर्ट है। 2021 की इन जलवायु प्रभाव की कहानियों को एक साथ एकत्र पाना और जीवन, आजीविका और समुदाय जो लोगों के विस्थापित होने पर अपरिवर्तनीय रूप से बदल जाता है, की लागत के अनुमानों को देखना आंखें खोल देता है। समुदाय का नुकसान और इसके साथ पृथ्वी से, संस्कृति से और एक दूसरे से जुड़ाव का नुकसान एक जबरदस्त क़ीमत है। इससे हम क्या सीख सकते हैं? लोगों का यह आंदोलन नए जुड़ाव और समझ का अवसर हो सकता है – विस्थापित लोगों की कहानियों को सुनने का अवसर। ऐसा करने से हम संस्कृतियों के पार उन प्रथाओं के बारे में सीखकर जो 2021 जैसे चरम जलवायु वर्षों के दौरान होने वाले संकटों के दौरान सलामती और सुरक्षा बढ़ाती हैं, समझ विकसित कर सकते हैं।”

यंग क्रिश्चियन क्लाइमेट नेटवर्क की सदस्य और COP26 के लिए ग्लासगो के लिए एक पैदल रिले में भाग लेने वाली रेचेल मैनडर ने कहा, “जलवायु परिवर्तन हमें दिवालिया कर देगा! इस से बचने के लिए हमें साहसपूर्ण कार्रवाई की आवश्यकता है – यह सुनिश्चित करने की कि लागत का बोझ वितरित किया जाए और वैश्विक असमानता को बदतर न करे, और साथ ही साथ उन गतिविधियों को और अधिक महंगा करना जो जलवायु परिवर्तन को ड्राइव करती हैं।”

नैरोबी स्थित थिंक टैंक पावर शिफ्ट अफ्रीका के निदेशक मोहम्मद अडो कहते हैं, “यह रिपोर्ट 2021 में दुनिया भर में हुई जलवायु पीड़ा की समझ प्रदान करती है। यह एक शक्तिशाली अनुस्मारक है कि कोविड महामारी से निपटने के लिए वातावरण हमारी प्रतीक्षा नहीं करेगा। यदि हम भविष्य में इस प्रकार के प्रभावों को रोकना चाहते हैं तो हमें बड़े पैमाने पर और तत्परता से कार्य करने की आवश्यकता है। अफ्रीका ने बाढ़ से लेकर सूखे तक, सबसे विनाशकारी प्रभावों में से कुछ, और शायद आर्थिक रूप से सबसे महंगे भी, का खामियाजा उठाया है। अभी पूर्वी अफ्रीका सूखे की चपेट में है जो समुदायों को कगार पर धकेल रहा है। इस ही वजह से यह महत्वपूर्ण है कि 2022 में ऐसे समुदायों की मदद के लिए वास्तविक कार्रवाई देखी जाए और यह अच्छा है कि COP27 मिस्र में अफ्रीकी धरती पर आयोजित किया जाएगा। यह वह वर्ष होना चाहिए जब हम संकट की अग्रिम पंक्ति के लोगों के लिए वास्तविक वित्तीय सहायता प्रदान करते हैं।”

DateEventTypeLocationDeathsNumber ofEconomic
     peoplecost (USD)
     displaced 
       
2 to 20-FebTexas Winter StormWinter stormUS210N/A23 billion
       
10 to 24-MarAustralian FloodsFloodsAustralia218,0002.1 billion
       
5 to 8 AprilFrench cold waveCold waveFranceN/AN/A5.6 billion
       
14 to 19-MayCyclone TauktaeTropical cycloneIndia, Sri Lanka,198200,000+1.5 billion
   Maldives   
       
25 to 29-MayCyclone YaasTropical cycloneIndia, Bangladesh1911,0003 billion
       
12 to 18 JulyEuropean floodsFloodsGermany, France,240N/A43 billion
   Netherlands,   
   Belgium,   
   Luxembourg   
       
17 to 31-JulyHenan floodsFloodsChina3021m+17.6 billion
       
21 to 28-JulyTyphoon In-faFloodsChina, Philippines,572,000+2 billion
   Japan   
       
28 Aug to 2 SeptHurricane IdaTropical cycloneUS9514,00065 billion
       
14 November-British ColumbiaFloodsCanada415,0007.5 billion
 floods     
       
  Other extreme weather events   
       
2019-2021Paraná riverDroughtArgentina, Paraguay,N/AN/A 
 drought Brazil   
       
July-NovemberSouth Sudan floodsFloodsSouth SudanN/A850,000+ 
2021      
       
1970-2021Lake Chad crisisDroughtNigeria, Niger, Chad,N/A5m+ 
   Cameroon   
       
25 June to 7 JulyPacific NorthwestHeatwaveUS, Canada1,037N/A 
 Heatwave     
       
2020-2021East Africa droughtDroughtKenya, Ethopia,N/AN/A 
   Somalia   
       

सौजन्य से: Climateकहानी