गुरुवार, 09 फ़रवरी 2023
खेत-खलिहान

चौधरी छोटूराम की मृत्यु के बाद 19 फ़रवरी, 1945 को पंजाब असेम्ब्ली में पढ़ा गया वह शोक संदेश



चौधरी सर छोटूराम की मृत्यु नो जनवरी, 1945 को हुई थी। यूनियनिस्ट पार्टी के हल और तलवार के चिन्ह वाले झंडे में लिपटे उनके शरीर को लाहौर से रोहतक लाया गया। रोहतक में कांग्रेस कमेटी की तरफ़ से प० श्रीराम शर्मा ने कांग्रेस पार्टी का तिरंगा झंडा पेश किया। चौधरी सर छोटूराम का दाहसंस्कार जाट हीरोज़ मेमोरीयल हाई स्कूल रोहतक की सेठ छाजूराम बिल्डिंग के सामने किया गया।

उनकी मृत्यु के बाद जब सोमवार, 19 फ़रवरी, 1945 को पंजाब असेम्ब्ली का सेशन शुरू हुआ तो सदन में उन्हें श्रधांजलि पेश की गई। पंजाब के प्रीमियर ख़िजर टिवाना समेत सभी वज़ीरों व सदस्यों ने शोक प्रकट किया। मुझे इनमें डॉ. शेख मुहम्मद आलम का शोक संदेश दिल से प्रकट किया दर्द लगा।

चौधरी छोटूराम को श्रधांजलि देते हुए डॉ. शेख मुहम्मद आलम (रावलपिंडी डिवीजन टाउन, मुहम्मडन, अर्बन) –
जनाब, काफ़ी देर बाद मैं इस अगस्त हाउस को एक बहुत ही अलग विषय पर संबोधित करने के लिए खड़ा हुआ हूं, जिसके बारे में मौखिक रूप से संवेदना व्यक्त की जानी है। मैं इस दुर्भाग्यपूर्ण घटना के बारे में कुछ सरल शब्दों में अपनी भावनाओं को व्यक्त करना चाहता हूँ। सभी तरह की राय के लोगों ने स्वर्गीय चौधरी सर छोटू राम पर सहानुभूति की बौछार की है। स्वर्गीय चौधरी सर छोटू राम की स्मृति को एक शानदार श्रद्धांजलि देने वालों में वो नेता भी शामिल हैं जो मानते हैं कि धर्म को राजनीति में हस्तक्षेप नहीं करना चाहिए और उन दलों के नेता भी जो मानते हैं कि धर्म को राजनीति में हस्तक्षेप करना चाहिए।

विभिन्न दलों के नेता, अर्थात् वे दल जो खुद को दलितों व दबे कुचले हुए जमींदारों के शुभचिंतक होने का दावा करते हैं, और जो गैर-कृषको के नेता कहे जाते हैं, स्वर्गीय सर छोटू राम की प्रशंसा में हमारे साथ जुड़े हैं। सर छोटू राम की महानता के बारे में विभिन्न दलों के इन नेताओं ने जो कुछ व्यक्त किया है, उसके संबंध में मैं कुछ नहीं कहना चाहता, लेकिन अब तक किए गए तमाशे से एक बात बिल्कुल स्पष्ट हो गई है कि एक आदमी के रूप में सर छोटू राम में कुछ अलग था, और मैं कहूंगा कि यही एकमात्र गुण था जिसने मुझे हमेशा बहुत दृढ़ता से आकर्षित किया था। इसी गुण के कारण ही मैं आज इस सदन में उनकी प्रशंसा करने के लिए खड़ा हूं, एक यूनियनिस्ट के रूप में नहीं, एक कृषक के रूप में नहीं, और एक राष्ट्रवादी के रूप में नहीं, बल्कि एक व्यक्ति के रूप में। एक व्यक्ति के रूप में उनमें वास्तव में कुछ विशेष ख़ासियत थी, जो उन्हें दूसरों से अलग करती थी और केवल उसी गुण के कारण वह हमारे बीच इतने लोकप्रिय थे।

मैं यह भी निवेदन कर सकता हूं कि उनके इसी गुण के कारण ही आज विभिन्न वर्गों के लोग भी अब उनकी प्रशंसा कर रहे हैं और उनके दुखद निधन पर बहुत दुखी हैं। अब सदन के पटल पर की गई सभी अनावश्यक टिप्पणियों को एक तरफ रखते हुए, मैं फिर से यह निवेदन करूंगा कि सर छोटू राम, एक व्यक्ति के रूप में हमारे बीच एक बहुत ही प्रतिष्ठित स्थान रखते थे। उनके मित्रों और यहाँ तक कि विरोधियों ने भी उन्हें विभिन्न रंगों में प्रस्तुत करते हुए इस तथ्य को स्वीकार किया है कि उनके दिल और दिमाग़ की योग्यता का स्तर बहुत ऊँचा था कि वो प्रशंसा के हक़दार थे और उनके सच्चे स्वभाव और सशक्त चरित्र के कारण ही उन्होंने उन्हें हमेशा सम्मान दिया था। वे पूँजीवाद के घोर विरोधी थे और गरीबों के प्रति स्नेही होने के कारण वे हमेशा उनके लिए डटे रहते थे। उनका जीवन गरीबों और दलित जमींदारों की स्थिति में सुधार के लिए एक निरंतर संघर्ष में गुज़रा और हम में से कोई भी इस तथ्य से इनकार नहीं कर सकता है कि अपने पूरे जीवन में वह एक वर्ग की भलाई के लिए प्रयास कर रहे थे, चाहे उस वर्ग का बहुमत मुस्लिम या हिंदू ही क्यों न हो। उन्होंने उस वर्ग की बेहतरी के लिए अच्छा प्रदर्शन किया, जिसकी मदद करने के लिए वह निकले थे। उन्होंने उनके अधिकारों की रक्षा की। उन्होंने उनमें नया रक्त संचार किया। उन्होंने सदन से उनके अधिकारों को दिलाया और उनके सिर को ऊंचा रखने के लिए उनके लिए हर संभव प्रयास किया। उनमें कई गुण थे लेकिन दो चीजें जो मुझे सबसे ज्यादा प्रभावित करती थीं, वह थी छोटू राम एक आदमी के रूप में और दूसरा पूंजीवाद के विरोध में।

अब, जनाब, मेरी इच्छा है कि हमारी सहानुभूति न केवल दिवंगत के परिवार के शोक संतप्त सदस्यों तक पहुंचाई जाए बल्कि यह बात झोंपड़ियों में रहने वाले जमींदारों और यहां तक ​​कि उन गरीब किसानों तक भी पहुंचाई जानी चाहिए जो मुश्किल से अपना गुजारा करते हैं, जिनके साथ दिवंगत मंत्री स्वर्गीय सर छोई राम का जज़्बाती रिश्ता था। हालांकि, मैं सरकार से कहना चाहता हूं कि वह हमारी भावनाओं को दिवंगत सर छोटू राम के दुश्मनों तक भी पहुंचाएं।

मेरे माननीय मित्र लाला भीम सेन सच्चर, जोकि विपक्ष के नेता हैं, ने ठीक ही कहा है कि सर छोटू राम अपने शक्तिशाली व्यक्तित्व के कारण दोस्त और दुश्मन बनाने में मदद नहीं कर सकते थे। मैं उनसे काफी सहमत हूं, लेकिन मैं कहूंगा कि दुश्मन कई तरह के होते हैं। ऐसे दुश्मन हैं जिनकी दुश्मनी ईमानदारी पर आधारित है जबकि दूसरी तरफ ऐसे दुश्मन हैं जिनकी दुश्मनी द्वेष में निहित है, सर छोटू राम के दूसरे प्रकार के दुश्मन भी थे। इस संबंध में मैं बता दूं कि कुछ ऐसे अख़बार थे जिनका प्रकाशन और स्तर मुख्य रूप से सर छोटू राम को गाली देने पर निर्भर करता था और उन पर कीचड़ उछालकर पैसा मिलता था। अब जाहिर तौर पर सर छोटू राम की मौत ने उनके पेशे को घातक झटका दिया है। मुझे उन अख़बारों पर बहुत दया आती है, क्योंकि अब वे पैसे नहीं हड़प सकेंगे जो वे अब तक करते रहे हैं। मुझे यह कहते हुए दुख हुआ कि ज़मींदारों के अधिकारों की रक्षा की ज़िम्मेदारी अपने ऊपर लेने वाले अख़बार भी उसी तर्ज पर काम कर रहे हैं, जैसा कि उन अख़बारों ने अपनाया है, जिनकी आय का स्रोत, जैसा कि मैंने बताया है, मुख्य रूप से दिवंगत मंत्री को कोसने पर निर्भर करता है।

मुझे उन अख़बारों से पूरी सहानुभूति है जिनकी आय सर छोटू राम की मृत्यु के कारण हमेशा के लिए रुक गई है।

अपनी सीट पर बैठने से पहले मैं कहूंगा कि सर छोटू राम वास्तव में एक महान व्यक्ति थे और मैं उन्हें एक यूनियनिस्ट के रूप में ही नहीं बल्कि पूंजीवाद के कट्टर विरोधी के रूप में, ग़रीब ज़मींदारों के एक महान शुभचिंतक और हमदर्द के रूप में बहुत सम्मान देता हूँ। अंत में मैं शोक संतप्त संबंधियों और गरीब जमींदारों के साथ-साथ स्वर्गीय सर छोटू राम के उन दयनीय शत्रुओं के प्रति गहरी सहानुभूति व्यक्त करता हूं, जिनकी आय को उनकी मृत्यु ने समाप्त कर दिया है।