शुक्रवार, 27 जनवरी 2023
खेत-खलिहान

पंजाब में किसानों की 100 करोड़ की मशीनें डकार गए अधिकारी



पराली जलाने पर रोक लगाने के लिए केंद्र ने अवशेष प्रबंधन योजना के तहत चार वर्षों (2018-19 से 2021-22) में 1,178 करोड़ रुपये की सब्सिडी प्रदान की थी.

पंजाब के 20 जिलों में 100 करोड़ रुपये की कृषि मशीनरी गायब होने के खुलासे के बाद, पंजाब सरकार ने विजिलेंस ब्यूरो (वीबी) को 1,178 करोड़ रुपये के घोटाले की जांच सौंपने का फैसला लिया है. अतिरिक्त मुख्य सचिव, कृषि, सर्वजीत सिंह ने पुष्टि की है कि उन्होंने विजिलेंस जांच करने के लिए कृषि और ग्रामीण विकास मंत्री कुलदीप धालीवाल को जांच रिपोर्ट भेज दी है.

इससे पहले, कृषि सचिव दिलराज सिंह संधावालिया ने कहा था कि चूंकि विभाग पहले ही जांच कर चुका है और 100 करोड़ रुपये से अधिक की मशीनें गायब पाई गई हैं, अब सरकारी जांच एजेंसी द्वारा जांच की जा सकती है. सोमवार को सौंपी गई एक रिपोर्ट में खुलासा हुआ था कि राज्य में 11 से 12 फीसदी मशीनरी का पता नहीं चल पाया है, जिसकी कीमत 100 करोड़ रुपये अनुमानित है.

द ट्रिब्यून द्वारा किए गए खुलासे के बाद, पंजाब सरकार ने 1 जुलाई को केंद्र की सब्सिडी के साथ राज्य भर में खरीदी गई 90,000 मशीनों में से प्रत्येक के ऑडिट और भौतिक सत्यापन का आदेश दिया था. अधिकारियों को लाभार्थी का नाम और गांव, किसान को प्राप्त सब्सिडी की राशि, आधार कार्ड नंबर और मशीन के बारे में जानकारी सहित विवरण प्रस्तुत करने के लिए कहा गया था. अधिकारियों को यह भी जांचने के लिए कहा गया है कि मशीन जमीन पर मौजूद थी या नहीं. सत्यापन 15 दिनों के भीतर पूरा किया जाना था.

पंजाब के कृषि विभाग के अधिकारी बठिंडा में उन कृषि मशीनरी बैंकों का पता लगाने में असमर्थ रहे हैं, जिन्हें केंद्र सरकार द्वारा पराली से निपटने के लिए एक योजना के तहत स्थापित किया गया था. कृषि उपकरणों की खरीद पर 80 प्रतिशत सब्सिडी प्रदान करते हुए, इन बैंकों / केंद्रों की स्थापना सहकारी समितियों द्वारा की गई थी जिसमें किसान, स्वयं सहायता समूह, किसान समितियाँ, कृषि समूह और निजी उद्यमी शामिल थे.

मध्यप्रदेश के सेंट्रल फार्म मशीनरी ट्रेनिंग एंड टेस्टिंग इंस्टीट्यूट बुदनी, की एक टीम ने जुलाई में बठिंडा, बरनाला और संगरूर जिलों में 107 केंद्रों का सर्वेक्षण किया था. टीम ने पंजाब सरकार को सौंपी अपनी एक रिपोर्ट में कहा है कि इनमें से केवल 73 ही सत्यापित हो पाए हैं और 34 बताए गए पतों पर नहीं मिल पाए हैं. प्रत्येक बैंक को 6 लाख से 8 लाख रुपये सब्सिडी के रूप में दिए गए हैं.

रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि किसानों को सूचना देने के लिए इन केंद्रों के बाहर कोई डिस्प्ले / सूचना बोर्ड नहीं लगाया गया था. इससे यह भी खुलासा होता है कि सरकारी सब्सिडी पर खरीदी गई मशीनों को योजना के तहत कवर होने वाले सीमांत/छोटे किसानों को किराए पर नहीं दिया गया था.

रिपोर्ट में कहा गया है कि इन तीन जिलों में बैंकों को 320 मशीनों की आपूर्ति की गई, जिनमें से केवल 276 भौतिक तौर पर मिलीं. सत्रह मशीनों का एकबार भी उपयोग ही नहीं किया गया था. इन बैंकों को कुल 167 हैप्पी सीडर्स की आपूर्ति की गई, जिनमें से 24 “भौतिक रूप से उपलब्ध नहीं” थे और दो हैप्पी सीडर बेकार पड़े थे. मशीनरी के कम उपयोग का संकेत देते हुए, रिपोर्ट बताती है कि एक सीजन में एक हैप्पी सीडर द्वारा कवर किया गया औसत क्षेत्र 68 एकड़ है, इन तीन जिलों में धान के तहत कुल क्षेत्रफल 9,500 एकड़ से अधिक है. मल्चर जैसी अन्य मशीनों का औसत उपयोग भी बहुत कम किया गया था.

साथ ही इन बैंकों के पदाधिकारियों को इन मशीनों के संचालन का प्रशिक्षण नहीं दिया गया था. किसी भी कस्टम हायरिंग सेंटर ने हायरिंग, रिपेयर और मेंटेनेंस का रिकॉर्ड नहीं रखा है. पंजाब के कृषि सचिव केएस पन्नू ने दावा किया कि केंद्रीय टीम के साथ सूची में कुछ विसंगतियां थीं. “हमने बाद में उन्हें बठिंडा जिले में सही सूची प्रदान की और अन्य मुद्दों को भी संबोधित किया.”

गौरतलब है कि पराली जलाने पर नियंत्रण के लिए केंद्र ने किसानों को व्यक्तिगत खरीद के साथ-साथ इन-सीटू फसल के तहत फसल अवशेष प्रबंधन के लिए मशीनरी बैंक स्थापित करने के लिए अवशेष प्रबंधन योजना के तहत चार वर्षों (2018-19 से 2021-22) में 1,178 करोड़ रुपये की सब्सिडी प्रदान की थी. हालांकि, इनमें से बड़ी संख्या में बैंक कागजों पर ही रह गए और अधिकारियों ने सब्सिडी की राशि गबन कर ली.

पिछली कांग्रेस सरकार समय पर कार्रवाई करने में विफल रही थी और यह घोटाला अगले तीन वर्षों तक जारी रहा. पूर्व कृषि मंत्री रणदीप नाभा ने दावा किया था कि मशीनरी खरीदने के लिए चार साल के लिए 1,178 करोड़ रुपये की केंद्रीय सब्सिडी दी गई थी. हालांकि, उपकरण कभी नहीं खरीदे गए.